scorecardresearch
 

Sarvapitra Amavasya: सर्वपितृ अमावस्या आज, पितरों के आशीर्वाद के लिए अंतिम दिन ऐसे करें श्राद्ध

आज पितृ पक्ष की सर्वपितृ अमावस्या है. ये श्राद्ध का अंतिम दिन होता है. पितृ पक्ष में अंतिम श्राद्ध को बहुत ही महत्वपूर्ण माना गया है. मान्यता है कि इस दिन विधि पूर्वक श्राद्ध कर्म करने से पितर प्रसन्न होते हैं और अपना आर्शीवाद देते हैं.

सर्वपितृ अमावस्या आज सर्वपितृ अमावस्या आज
स्टोरी हाइलाइट्स
  • सर्वपितृ अमावस्या आज
  • पितृ पक्ष का अंतिम दिन आज
  • अंतिम दिन ऐसे करें श्राद्ध

आज श्राद्ध का अंतिम दिन है. इस दिन को सर्वपितृ अमावस्या,आश्विन अमावस्या, बड़मावस और दर्श अमावस्या भी कहा जाता है. सर्वपितृ अमावस्या के दिन उन लोगों का श्राद्ध किया जाता है जिन लोगों की मृत्यु की तिथि पता नहीं होती है. इसके अलावा जिनकी मृत्यु अमावस्या को होती है उनका श्राद्ध भी सर्वपितृ अमावस्या के दिन किया जाता है. सर्वपितृ अमावस्या को बहुत ही विशेष दिन माना गया है. 


सर्वपितृ अमावस्या पर ऐसे करें श्राद्ध

सर्वपितृ अमावस्या के दिन पितरों को शांति देने के लिए और उनकी कृपा प्राप्त करने के लिए गीता के सातवें अध्याय का पाठ अवश्य ही करें. साथ ही उसका पूरा फल पितरों को समर्पित करें. शास्त्रों के अनुसार पीपल की सेवा और पूजा करने से हमारे पितृ प्रसन्न रहते हैं. इस दिन स्टील के लोटे में, दूध, पानी, काले तिल, शहद और जौ मिला लें. इसके साथ कोई भी सफेद मिठाई, एक नारियल, कुछ सिक्के और एक जनेऊ लेकर पीपल वृक्ष के नीचे जाकर सर्व प्रथम लोटे की समस्त सामग्री पीपल की जड़ में अर्पित कर दें. ॐ सर्व पितृ देवताभ्यो नमः मंत्र का लगातार जाप करते रहें.

सर्वपितृ अमावस्या का महत्व

पितृ पक्ष में सर्वपितृ अमावस्या का विशेष महत्व माना गया है. जो लोग किसी कारणवश पितृ पक्ष में श्राद्ध नहीं कर पाए हैं, वो भी इस दिन पितरों का श्राद्ध कर सकते हैं. मान्यता है कि इस दिन विधि पूर्वक श्राद्ध कर्म करने से पितर प्रसन्न होते हैं और अपना आर्शीवाद देते हैं. सर्वपितृ अमावस्या पितृ पक्ष का अंतिम दिन होता है इसलिए इस दिन पितरों से क्षमा याचना करते हुए उन्हें बहुत ही आदर भाव से विदा करना चाहिए.

 

 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें