scorecardresearch
 

उदयपुर मर्डर केस का वीडियो और हथियारों की फोटो सोशल मीडिया पर डालकर फैलाई दहशत, 5 गिरफ्तार

राजस्थान के हनुमानगढ़ जिले की पुलिस ने पांच ऐसे लोगों को गिरफ्तार किया है, जिन्होंने उदयपुर की घटना का वीडियो और हथियारों की तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल की थीं. पुलिस का कहना है कि इन आरोपियों ने वीडियो और तस्वीरें वायरल कर आम लोगों के बीच दहशत फैलाने का काम किया है.

X
पुलिस की गिरफ्त में आरोपी.
पुलिस की गिरफ्त में आरोपी.
स्टोरी हाइलाइट्स
  • हनुमानगढ़ जिले की पुलिस ने दिया कार्रवाई को अंजाम
  • आम लोगों के बीच दहशत फैलाने का आरोप

राजस्थान के हनुमानगढ़ जिले में सोशल मीडिया पर उदयपुर की घटना की वीडियो वायरल करने और हथियारों के फोटो व वीडियो अपलोड करने के मामले में 5 आरोपियों को पुलिस ने अरेस्ट किया है. इस कार्रवाई को संगरिया सदर, हनुमानगढ़ टाउन और नोहर थाना पुलिस ने अंजाम दिया. इन सभी पर आरोप है कि फोटो व वीडियो वायरल कर आमजन में दहशत फैलाई है.

हनुमानगढ़ एसपी अजय सिंह ने बताया कि सोशल मीडिया पर अवैध हथियारों के साथ फोटो और वीडियो एडिट कर वायरल करने के आरोप में 26 वर्षीय विनोद पुरी को गिरफ्तार किया गया है. इसके अलावा आरोपी 35 वर्षीय राजकुमार जाट और 50 वर्षीय मोहम्मद शकूर को भी अरेस्ट किया गया है.

हनुमानगढ़ पुलिस ने सोशल मीडिया पर उदयपुर की घटना का वीडियो वायरल करने के आरोप में आरोपी 36 वर्षीय सिराजुद्दीन को गिरफ्तार किया गया है. इसी तरह सोशल मीडिया पर नकली पिस्टल के साथ अपनी फोटो वायरल करने के आरोप में थानाधिकारी नोहर रविंद्र सिंह और उनकी टीम ने 21 वर्षीय पवन कुमार को गिरफ्तार किया.

28 जून को हुई थी कन्हैयालाल की हत्या
बता दें कि उदयपुर में 28 जून की दोपहर दो युवकों मोहम्मद रियाज और गौस मोहम्मद ने टेलर कन्हैयालाल की धारदार हथियार से हमला कर हत्या का दी थी. आरोपी कपड़े सिलवाने के बहाने दुकान पर आए थे. इसके बाद दोनों आरोपियों ने वीडियो शेयर कर कहा था कि उन्होंने इस्लाम के अपमान का बदला लेने के लिए कन्हैयालाल की हत्या की. इतना ही नहीं आरोपियों ने पीएम नरेंद्र मोदी को भी धमकी दी थी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें