scorecardresearch
 

कृपाल सिंह हत्याकांड के 5 आरोपी अलग-अलग कोर्ट में पेश, महाराष्ट्र से हुए थे गिरफ्तार

नागौर जिला कोर्ट में पेशी पर आए गैंगस्टर संदीप बिश्नोई को दूसरे गैंग के बदमाशों ने हत्या कर दी थी. इस घटना को देखते हुए आज भरतपुर में भारी सुरक्षा के बीच कृपाल सिंह हत्याकांड के 5 आरोपी को कोर्ट में पेश किया गया. कोर्ट ने पांचों बदमाशों को 10 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है.

X
कृपाल सिंह हत्याकांड के आरोपी
कृपाल सिंह हत्याकांड के आरोपी

भरतपुर में कुछ दिनों पहले गैंगवार में एक हिस्ट्रीशीटर कृपाल सिंह जघीना की हत्या कर दी गई थी. वारदात के 5 आरोपियों को मंगलवार को पुलिस ने विशेष सुरक्षा के बीच जिला न्यायालय में पेश किया.

पुलिस ने सभी पांच आरोपियों को एक साथ कोर्ट में पेश नहीं किया. सभी को कड़ी सुरक्षा के बीच अलग-अलग कोर्ट में पेश किया गया.

ऐसा इसलिए किया गया क्योंकि एक दिन पहले सोमवार को ही संदीप बिश्नोई उर्फ सेठी की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. वारदात को उस वक्त अंजाम दिया गया, जब सेठी राजस्थान के नागौर की जिला कोर्ट के बाहर निकला था. इस घटना के बाद राजस्थान पुलिस अलर्ट मोड में आ गई है.

महाराष्ट्र से गिरफ्तार किए गए थे आरोपी 
4 सितंबर को मथुरा गेट थाना इलाके में गैंगवार हुआ था. इस दौरान हिस्ट्रीशीटर कृपाल सिंह पर ताबड़तोड़ फायरिंग कर उसकी हत्या कर दी गई थी. वारदात में शामिल फरार 5 आरोपियों को पुलिस ने महाराष्ट्र से गिरफ्तार किया था.

ये आरोपी पुलिस रिमांड पर थे. इनको मंगलवार को पुलिस ने जिला न्यायालय में पेश किया. कोर्ट ने पांचों बदमाशों को 10 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है.

मामले में भरतपुर के सीओ सिटी सतीश वर्मा ने बताया, "कृपाल सिंह हत्याकांड में शामिल रहे 5 बदमाशों को पुलिस रिमांड के बाद आज कोर्ट में पेश किया गया. खासकर नागौर की घटना को देखते हुए भारी पुलिस सुरक्षा के बीच इन पांचों बदमाशों को अलग-अलग कोर्ट में पेश किया गया था."

संदीप बिश्नोई के मर्डर से लिया मूसेवाला की मौत का बदला
अब बात करते हैं संदीप बिश्नोई की हत्या के मामले की. सोमवार को काली स्कॉर्पियो में सवार हमलावरों ने गैंगस्टर संदीप के सिर पर गोली मारकर उसकी हत्या कर दी थी. वह सुनवाई के लिए नागौर कोर्ट आया था.

गैंगस्टर संदीप बिश्नोई सेठी गैंग का गुर्गा था, जिसका संबंध लॉरेंस बिश्नोई गैंग से है. हत्या के बाद दविंदर बंबिहा गैंग ने सोशल मीडिया पर कहा था कि सिद्धू मूसेवाला की मौत का बदला है. गिरोह, बंबिहा गैंग को अर्मेनिया में बैठा लकी पटियाल चला रहा है.

बंबिहा गैंग ने सोशल मीडिया पोस्ट में कहा था कि लॉरेंस बिश्नोई, जग्गू भगवानपुरिया और गोल्डी बरार का भी ऐसा ही हाल होगा. हालांकि, इसके बाद कथित तौर पर गोल्डी बरार से जुड़े एक अकाउंट से दावा किया गया कि बंबिहा गैंग का दावा निराधार है.

यह पुरानी रंजिश का मामला है. गोल्डी बरार ने दावा किया कि पीड़ित और हमलावर दोनों उनके गैंग के मुखबिर थे. दोनों के बीच करीब 10 साल से रंजिश चल रही थी. दोनों के बीच विवाद को सुलझाने की कोशिश भी की थी. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें