scorecardresearch
 

नफरत के मासूम मोहरे

नफरत के मासूम मोहरे

जैसे-जैसे दौर बदल रहा है आतंक का चेहरा भी बदल रहा है. पहले कट्टर धार्मिक लोगों को उकसा कर आतंकवादी बनाया जाता था. उसके बाद कम पढ़े-लिखे लोगों को फांसने की कोशिशें हुईं. अब पढ़े-लिखे लड़कों को गुमराह किए जाने की बारी है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें