scorecardresearch
 

शंखनाद: UP में भाईजान, अब्बाजान के बाद चचाजान की एंट्री, आखिर क्यों मचा घमासान?

शंखनाद: UP में भाईजान, अब्बाजान के बाद चचाजान की एंट्री, आखिर क्यों मचा घमासान?

जान है तो सियासी जहान है. यूपी की सियासत में अब यही नारा बुलंद है. अब्बा जान भाईजान के बाद अब सियासत में चच्चा जान और अम्मीजान की एंट्री हो चुकी है. राकेश टिकैत ने ओवैसी को बीजेपी का चचाजान बताया है. जिस पर अब घमासान मच चुका है. बात किसान आंदोलन की थी लेकिन ओवैसी को बीच में लाकर राकेश टिकैत उस लिस्ट में शामिल हो गए हैं जिसमें जान नाम की पॉलिटिक्स चल रही है. पहले अल्लाहु अकबर का नारा और अब चचाजान, जिसने पूरे किसान आंदोलन को सियासी बना दिया है. यूपी का चुनाव सिर्फ लखनऊ की सियासत नहीं तय करता, ये दिल्ली की गद्दी का फैसला भी करता है. यहां सारे हथकड्डे अपनाए जाते हैं. आजकल यहां हिंदू मुसलमान का खेल चल रहा है, जिसमें जान वाला ट्रैंड चल रहा है. देखिए शंखनाद का ये एपिसोड.

Bharatiya Kisan Union (BKU) leader Rakesh Tikait said that All India Majlis-e-Ittehadul Muslimeen (AIMIM) leader Asaduddin Owaisi and BJP were a "team", adding that the farmers needed to understand their moves and called Asaduddin Owaisi the "chacha jaan" of BJP. Now after this statement of Tikait, UP's political temperature has gone high. Watch this episode of Shankhnaad.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें