scorecardresearch
 

आजतक रेडियो

सुनता है सारा जहाँ

manzoor ahtesham

मंज़ूर एहतेशाम अपनी कहानी की तरह जिये और उसी की तरह चले गए: नामी गिरामी, Ep 95

3 अप्रैल 1948 को भोपाल में जन्मे मंजूर एहतिशाम साहित्य जगत की मशहूर शख़्सियत रहे हैं. उन्होंने पांच उपन्यास समेत कई कहानियां और नाटक लिखे हैं. उन्हें साल 2003 में पद्मश्री सम्मान से नवाज़ा गया था. अमन गुप्ता इस बार 'नामी गिरामी' में लेकर आए हैं उन्हीं का सफ़रनामा.

अपनी पसंद के पॉडकास्ट सुनने का आसान तरीक़ा, हमें सब्सक्राइब करें यूट्यूब और टेलीग्राम पर. फेसबुक पर जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें.

ये भी सुनिए