scorecardresearch
 

आजतक रेडियो

सुनता है सारा जहाँ

भारतीय रेल

रेलवे में निजी कंपनियां, प्राइवेटाइजेशन या रिफॉर्म?

भारतीय रेलवे ने हाल ही में कुछ रूटों की पहचान की है और उस पर ट्रेन दौड़ाने को लेकर प्राइवेट कंपनियों से अपने कागज़ जमा करने को कहा है. रेलवे के इस क़दम को निजीकरण से जोड़ कर देखा जा रहा है. अब सवाल क्या-क्या उठ रहे हैं? लिस्ट लम्बी है लेकिन महत्पूर्ण है. जैसे कि क्या इस निजीकरण को रिफॉर्म कहना ठीक होगा? समस्या क्या आ आएगी? किराया कैसे और कौन तय करेगा? क्या रेलवे पहले भी ऐसा करने की कोशिश कर चुका है और अगर हां तो उसका क्या हुआ? इन सभी सवालों के जवाब इस पॉडकास्ट में दे रहे हैं इंडिया टुडे हिंदी पत्रिका के संपादक अंशुमान तिवारी.

ये भी सुनिए