scorecardresearch
 

आजतक रेडियो

सुनता है सारा जहाँ

too much democracy

Too much डेमोक्रेसी की बात क्या भारत के मामले में सही है?: पॉड ख़ास, Ep 625

नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत ने कहा कि रिफॉर्म नहीं होने का बड़ा कारण देश में लोकतंत्र का कुछ अधिक ही होना है. उनके बयान के बाद बवंडर उठा और चारों तरफ से रिएक्शंस आए. क्या वाकई भारत के आर्थिक सुधारों में लोकतंत्र का अधिक होना रुकावट बन रहा है, इस पर बात की अमेरिका की यूनिवर्सिटी ऑफ डेलावेयर में प्रोफेसर मुक़्तदर खान से नितिन ठाकुर ने.

अपनी पसंद के पॉडकास्ट सुनने का आसान तरीक़ा, हमें सब्सक्राइब करें यूट्यूब और टेलीग्राम पर. फेसबुक पर जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें.

ये भी सुनिए