scorecardresearch
 

'सारे हिंदुओ देख लो...', B.Tech स्टूडेंट की लाश मिलने से पहले पिता को मिले 3 मैसेज

मध्यप्रदेश के भोपाल में B.Tech स्टूडेंट निशंक राठौर की संदेहास्पद मौत के दिन ही उसके पिता को एक Whatsapp मैसेज मिले थे. एक स्क्रीनशॉट पर लिखा था- 'गुस्ताख-ए- नबी की एक ही सजा, सिर तन से जुदा...' इसके अलावा दूसरे मैसेज में लिखा था कि राठौर साहब, बहादुर था आपका बेटा.' पिता का कहना है कि निशंक हिंदूवादी विचारधारा का नहीं था और वह आत्महत्या कर ही नहीं सकता.

X
B.Tech स्टूडेंट निशंक राठौर की संदेहास्पद मौत. B.Tech स्टूडेंट निशंक राठौर की संदेहास्पद मौत.

Madhya Pradesh: भोपाल से B.Tech कर रहे निशंक राठौर की लाश रेलवे ट्रैक पर मिलने का मामला बेहद रहस्यमय होता जा रहा है. नर्मदापुरम जिले के रहने वाले छात्र की रविवार को रायसेन के बरखेड़ा इलाके में रेलवे ट्रैक पर मिली थी. हैरानी की बात है कि घटना के दिन ही मृतक के मोबाइल से ही उसके पिता को वॉट्सऐप मैसेज भेजे गए थे.  

दरअसल, निशंक राठौर का परिवार रविवार दोपहर 3 बजे से ही अपने बेटे के लापता होने से परेशान था. परिजनों के परेशान होने की वजह थी कि बेटे की इंस्टाग्राम स्टोरी और फेसबुक पर डली हुई पोस्ट. दरअसल, निशंक के इंस्टाग्राम फोटो पर लिखा हुआ था- 'गुस्ताख-ए-नबी की एक ही सजा, सिर तन से जुदा...' इसके साथ ही लिखा था, 'सारे हिंदू कायरों देख लो, अगर नबी के बारे में गलत बोलोगे तो यही हश्र होगा...'

घरवाले बेटे की इस पोस्ट से परेशान होकर लगातार युवक से संपर्क करने की कोशिश करते रहे. फोन पर रिंग जा रही थी और कट रहा था. इसके बाद पिता ने बेटे को मैसेज में लिखा, 'फोन क्यों नहीं उठा रहा है?' 

इसके बाद शाम को तकरीबन 6 बजे युवक के पिता उमा शंकर राठौर को एक वॉट्सऐप मैसेज मिला, जिसमें लिखा था- राठौर साहब, 'आपका बेटा बहुत बहादुर था.'  जिसके चलते परिवार ने रात में ही भोपाल पहुंचकर बेटे की गुमशुदगी भी दर्ज कराई. पुलिस लापता छात्र की तलाश में जुटी थी. एक सीसीटीवी फुटेज में दिखा कि निशंक अकेले ही मंडीदीप (रायसेन जिला) की ओर जा रहा है.

इसी दौरान, पुलिस को शाम करीब 6:10 बजे पर बरखेड़ा रेलवे ट्रैक पर एक युवक के ट्रेन से कटने की सूचना मिली. जिसकी शिनाख्त लापता निशंक के तौर पर हुई. इसके बाद परिजनों को जानकारी दी गई और भोपाल एम्स में मृतक का पोस्टमार्टम करवाया गया. मृतक के परिजन उसका शव लेकर सिवनी मालवा (नर्मदापुरम जिला) रवाना हो गए हैं. 

निशंक के पिता  उमा शंकर राठौर का कहना है, ''मेरे बेटा इतना बिंदास और मस्त मौला था कि वह सुसाइड कर ही नहीं सकता है. मुझे वह अपने मोबाइल से भी ऐसी पोस्ट नहीं कर सकता. यही नहीं, इंस्टाग्राम पर भी वह इस तरह की गतिविधियों में लिप्त नहीं था और न ही हिंदूवादी विचारधारा का था. उन्होंने पुलिस से मांग की है कि जांच हो और सही स्थिति सामने लाई जाए.

वहीं, इस पूरे मामले में भोपाल ACP सचिन अतुलकर का कहना है कि मामले की जांच जारी है. पुलिस को पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतजार है, जिससे पता चल सकेगा कि यह हत्या है या आत्महत्या? फिलहाल, तीन जिलों भोपाल, नर्मदापुरम और रायसेन जिले की पुलिस इस मामले की जांच में जुटी है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें