scorecardresearch
 

यशपाल की जयंती पर उनकी प्रतिनिधि कहानियां से एक रचनाः आदमी का बच्चा

मानवीय मूल्यों के बड़े चितेरे यशपाल की जयंती पर साहित्य आजतक पर पढ़िए बालमनोविज्ञान को उजागर करती उनकी बेहद मार्मिक कहानी

प्रतिनिधि कहानियाँ: यशपाल प्रतिनिधि कहानियाँ: यशपाल

प्रेमचंद की कथा-परंपरा को विकसित करनेवाले सुविख्यात कथाकार यशपाल की आज जयंती है. 3 दिसंबर 1903 को पंजाब के फिरोजपुर में उनका जन्म हुआ. यशपाल के लिए साहित्य एक ऐसा शास्त्र था, जिससे उन्हें संस्कृति का पूरा युद्ध जीतना था! और उन्होंने जीता ! प्रत्येक स्तर पर वे सजग थे! विचार, तर्क, व्यंग्य, कलात्मक सौंदर्य, मर्म-ग्राह्यता- हर स्तर पर उन्होंने अपनी प्रतिभा का प्रमाण दिया!
समाज में जहाँ कहीं भी शोषण और उत्पीड़न था, जहां कहीं भी रूढ़ियों, परम्पराओं, नैतिकताओं, धर्म और संस्कारों की जकड़ में जीवन कसमसा रहा था, यशपाल की दृष्टि वहीँ पड़ी और उन्होंने पूरी शक्ति से वहीं प्रहार किया! इसी दृष्टि को लेकर उन्होंने उस इतिहास-क्षेत्र में प्रवेश किया जहां के भीषण अनुभवों को भव्य और दिव्य कहा गया था! उन्होंने उस मानव-विरोधी इतिहास की धज्जियाँ उड़ा दी!
यशपाल मानवीय मूल्यों के बड़े चितेरे थे, पर व्यंग्य उनकी रचना में तलवार की तरह रहा है और वे रहे हैं नए समाज की पुनर्रचना के लिए समर्पित एक योद्धा! मर्मभेदी दृष्टि, प्रौढ़ विचार और क्रन्तिकारी दर्शन ने उन्हें विश्व के महानतम रचनाकारों की श्रेणी में ला बिठाया है! उनकी प्रतिनिधि कहानियां उनकी इसी तेजोमय यात्रा का प्रमाण जुटाती हैं !

साहित्य आजतक पर यशपाल जयंती पर पढ़िए उनकी यह कहानी

आदमी का बच्चा

                                                                        - यशपाल

दोपहर तक डौली कान्वेण्ट (अंग्रेजी स्कूल) में रहती है. इसके बाद उसका समय प्रायः आया 'बिन्दी' के साथ कटता है. मामा दोपहर में लंच के लिए साहब की प्रतीक्षा करती है. साहब जल्दी में रहते हैं. ठीक एक बजकर सात मिनट पर आये, गुसलखाने में हाथ-मुंह धोया, इतने में मेज पर खाना आ जाता है. आधे घण्टे में खाना समाप्त कर, सिगार सुलगा साहब कार में मिल लौट जाते हैं. लंच के समय डौली खाने के कमरे में नहीं आती, अलग खाती है.
सन्ध्या साढ़े पांच बजे साहब मिल से लौटते हैं तो बेफिक्र रहते हैं. उस समय वे डोली को अवश्य याद करते हैं. पांच-सात मिनट उससे बात करते हैं और फिर मामा से बातचीत करते हुए देर तक चाय पर बैठे रहते हैं. मामा दोपहर या तीसरे पहर कहीं बाहर जाती है तो ठीक  पाँच बजे लौटकर साहब के लिए कार मिल में भेज देती हैं. डोली को बुला साहब के मुआयने के लिए तैयार कर लेती हैं. हाथ-मुंह धुलवाकर डोली की सुनहलापन लिये, काली कत्थई अलकों में वे अपने सामने कंघी कराती हैं. स्कूल की वर्दी की काली-सफेद फ्राक उतारकर, दोपहर में जो मामूली फ्राक पहना दी जाती है, उसे बदल नयी बढ़िया फ्रॉक उसे पहनायी जाती है, बालों में रिबन बांधा जाता है. सैंडल के पालिश तक पर मामा की नजर जाती है.
बग्गा साहब मिल में चीफ इंजीनियर हैं. विलायत पास हैं. बारह सौ रुपया महीना पाते हैं. जीवन से सन्तुष्ट हैं परन्तु अपने उत्तरदायित्व से भी बेपरवाह नहीं. बस एक ही लड़की है डौली. डौली पाँचवें वर्ष में है. उसके बाद कोई सन्तान नहीं हुई. एक ही सन्तान के प्रति अपना कर्तव्य पूरा कर सकने से साहब और मामा को पर्याप्त सन्तोष है. बग्गा साहब की नजरों में सन्तान के प्रति उत्तरदायित्व का आदर्श ऊँचा है. वे डौली को बेटी या बेटा सबकुछ समझकर सन्तोष किये हैं. यूनिवर्सिटी की शिक्षा तो वह पायेगी ही. इसके बाद शिक्षा-श्रम पूरा करने के लिए उसका विलायत जाना भी आवश्यक और निश्चित है. सन्तान के प्रति शिक्षा के उत्तरदायित्व का यह आदर्श कितनी सन्तानों के प्रति पूरा किया जा सकता है? साहब कहते हैं- यों कीड़े-मकोड़े की तरह पैदा करके क्या फायदा? मामा-मिसेज बग्गा भी हामी भरती हैं और क्या ?
डौली....! डौली....! डौली... ! मामा तीन दफे पुकार चुकी थीं. चौथी दफे उन्होंने आया को पुकारा. कोई उत्तर न पा वे खिसियाकर स्वयं बरामदे में निकल आयीं. अभी उन्हें स्वयं भी कपड़े बदलने थे. देखा-बंगले के पिछवाड़े से; जहाँ धोबी और माली के क्वार्टर हैं, आया डौली को पकड़े लिये ला रही है. मामा ने देखा और धक्क-से रह गयी. वे समझ गयीं- डोली अवश्य माली के घर गयी होगी. दो-तीन दिन पहले मालिन के बच्चा हुआ था. उसे गोद में लेने के लिए डौली कितनी ही बार जिद्द कर चुकी थी. डोली के माली की कोठरी में जाने से मामा भय-भीत थीं. धोबी के लड़के को पहले ही सप्ताह खसरा निकला था.
लड़की उधर जाती तो उन बेहूदे बच्चों के साथ शहतूत के पेड़ के नीचे धूल में से उठा-उठाकर शहतूत खाती. उन्हें भय था, उन बच्चों के साथ डौली की आदतें बिगड़ जाने का. आया इन सब अपराधों का उत्तरदायित्व अपने ऊपर अनुभव कर भयभीत थी. मेम साहब के सम्मुख उनकी बेटी की उच्छृंखलता से अपनी बेबसी दिखाने के लिए वह डौली से एक कदम आगे, उसकी बाँह थामे यों लिये आ रही थी जैसे स्वच्छन्दता से पत्ती चरने के लिए आतुर बकरी को, जबरन कान पकड़ घर की ओर लाया जाता है.
मामा के कुछ कह सकने से पहले ही आया ने ऊंचे स्वर में सफाई देना शुरू किया- "हम ज़रा सेंडिल पर पालिस करें के तई भीतर गयेन. हमसे बोलीं कि हम गुसलखाने जायेंगे. इतने में हम बाहर निकलकर देखें तो माली के घर पहुंची हैं. हमको तो कुछ गिनती ही नहीं. हम समझायें तो उल्टे हमको मारती है."
इस पेशबन्दी के बावजूद आया को डांट पड़ी. "दिस इज वेरी सिली!" मामा ने डोली को अंग्रेजी में फटकारा. अंग्रेजी के सभी शब्दों का अर्थ न समझ कर भी डौली अपना अपराध और उसके प्रति मामा की उद्विग्नता समझ गयी.
तुरन्त साबुन से हाथ-मुंह धुलाकर डोली के कपड़े बदले गये. चार बजकर बीस मिनट हो चुके थे, इसलिए आया जल्दी-जल्दी डौली को मोजे और सैण्डल पहना रही थी और मामा स्वयं उसके सिर में कंघी कर उसकी लटों के पेचों को फीते से बाँध रही थी, स्नेह से बेटी की पलकों को सहलाते हुए उन्हें अचानक गर्दन पर कुछ दिखाई दिया- जो वज्रपात हो गया. निश्चय ही जू माली और धोबी के बच्चों की संगत का परिणाम थी. आया पर एक और डॉट पड़ी और नोटिस दे दी गयी कि यदि फिर डौली आवारा, गन्दे बच्चों के साथ खेलती पायी गयी तो बस बर्खास्त कर दी जायेगी.
बेटी की यह दुर्दशा देख माँ का हृदय पिघल उठा. अंग्रेजी छोड़ वे द्रवित स्वर में अपनी ही बोली में बेटी को दुलार से समझाने लगीं, "डोली तो प्यारी बेटी है, बड़ी ही सुन्दर, बड़ी ही लाड़ली बेटी, हम इस को सुन्दर-सुन्दर कपड़े पहनाते हैं. डौली, तू तो अंग्रेजों के बच्चों के साथ स्कूल जाती है न बस में बैठकर. ऐसे गन्दे बच्चों के साथ नहीं खेलते न!"
मचलकर फर्श पर पाँव पटक डौली ने कहा- "मामा, हमको माली का बच्चा ले दो, हम उसे प्यार करेंगे."
"छी, छी!" मामा ने समझाया, "वह तो कितना गंदा बच्चा है! ऐसे गन्दे बच्चों के साथ खेलने से छी-छीवाले हो जाते हैं. इनके साथ खेलने से जुएँ पड़ जाती हैं. वे कितने गंदे हैं, काले-काले धत्त! हमारी डौली कहीं काली है? आया, डौली को खेलने के लिए मैनेजर साहब के यहाँ ले जाया करो. वहाँ यह रमन और ज्योति के साथ खेल आया करेगी. इसे शाम को कम्पनी बाग ले जाना."
डौली ने माँ के गले में बाँहें डाल विश्वास दिलाया कि अब वह कभी गन्दे और छोटे लोगों के काले बच्चों के साथ नहीं खेलेगी. उस दिन चाय पीते-पीते बग्गा साहब और मिसेज बग्गा में चर्चा होती रही कि बच्चे न जाने क्यों छोटे बच्चों से खेलना पसन्द करते हैं. एक बच्चे को ही ठीक से पाल सकना मुश्किल है जाने कैसे लोग इतने बच्चों को पालते हैं.
देखो तो माली को! कमबख्त के तीन बच्चे पहले हैं, एक और हो गया.
बग्गा साहब के यहाँ एक कुतिया विचित्र नस्ल की थी. कागजी बादाम का-सा रंग, गर्दन और पूंछ पर रेशम के-से मुलायम और लम्बे बाल, सीना चौड़ा. बाँहों की कोहनियाँ बाहर को निकली हुई! पेट बिल्कुल पीठ से सटा हुआ. मुंह जैसे किसी चोट से पीछे को बैठ गया हो. आँखें गोल-गोल जैसे ऊपर से रख दी गयी हों. नये आनेवालों की दृष्टि उसकी ओर आकर्षित हुए बिना न रहती. यही कुतिया की उपयोगिता और विशेषता थी.
ढाई सौ रुपया इसी शौक का मूल्य था. कुत्ते ने पिल्ले दिये. डोली के लिए यह महान उत्सव था. वह कुत्ते के पिल्लों के पास से हटाना ही न चाहती थी. उन चूहे-जैसी मुंदी हई आँख वाले पिल्लों को मांगने वालों की कमी न थी परन्तु किसे दें और किसे इनकार करें? यदि इस नस्ल को यों बाँटने लगें तो फिर उसकी कद्र ही क्या रह जाये? कुतिया का मोल ढाई सौ रुपया उसके दूध के लिए तो होता नहीं!
साहब का कायदा था, कुत्ते पिल्ले देती तो उन्हें मेहतर से कह गरम पानी में गोता दे मरवा देते. इस दफे भी वे यही करना चाहते थे परन्तु डौली के कारण परेशान थे. आखिर उसके स्कूल गये रहने पर बैरे ने मेहतर से काम करवा डाला.
स्कूल से लौट डोली ने पिल्लों की खोज शुरू की. आया ने कहा, "पिल्ले मैनेजर साहब के यहाँ रमन को दिखाने के लिए भेजे हैं, शाम को आ जायेंगे."
मामा ने कहा- "बेबी, पिल्ले सो रहे हैं. जब उठेंगे तो तुम उनसे खेल लेना."
डौली पिल्लों को खोजती ही फिरी. आखिर मेहतर से उसे मालूम हो गया कि वे गरम पानी में डुबोकर मार डाले गये हैं.
डोली रो-रोकर बेहाल हो रही थी. आया उसे पुचकारने के लिए गाड़ी में कंपनी बाग ले गई. डोली बार-बार पूछ रही थी- "आया, पिल्लों को गरम पानी में डुबोकर क्यों मार दिया?"
आया ने समझाया-"डैनी (कुतिया) इतने बच्चों को दूध कैसे पिलाती? वे भूख से चेउं-चेउं कर रहे थे इसलिए उन्हें मरवा दिया." दो दिन तक डैनी के पिल्लों का मातम है और डौली फिर और लोगों की तरह तू भी उन्हें भूल गयी.
माली के नये बच्चे के रोने की कें-कें आवाज आधी रात में, दोपहर में, सुबह-शाम किसी भी समय आने लगती. मिसेज बग्गा को यह बहुत बुरा लगता. झल्लाकर वे कह बैठती- "जाने इस बच्चे के गले का छेद कितना बड़ा है."
बच्चे की कें-कें उन्हें और भी बुरी लगती जब डौली पूछने लगती, "मामा, माली का बच्चा क्यों रो रहा है?"
बिन्दी समीप ही बैठी बोल उठी- "रोयेगा नहीं तो क्या, माँ के दूध ही नहीं उतरता."
मामा और बिन्दी को ध्यान नहीं था कि डौली उनकी बात सुन रही है. डौली बोल उठी- "मामा, माली के बच्चे को मेहतर से गरम पानी में डलवा दो तो फिर नहीं रोयेगा."
बिन्दी ने हंसकर धोती का आंचल होंठों पर रख लिया. मामा चौंक उठी. डोली अपनी भोली, सरल आँखों में समर्थन की आशा लिये उनकी ओर देख रही थी.
"दिस इज वेरी सिली डौली, कभी आदमी के बच्चे के लिए ऐसा कहा जाता है!" मामा ने गम्भीरता से समझाया. परिस्थिति देख आया डौली को बाहर घुमाने ले गयी.
तीसरे दिन सन्ध्या-समय डौली मैनेजर साहब के यहाँ रमन और ज्योति के साथ खेलकर लौट रही थी. बंगले के दरवाजे पर माली अपने नये बच्चे को कोरे कपड़े में लपेटे दोनों हाथों पर लिये बाहर जाता दिखायी दिया. उसके पीछे मालिन रोती चली आ रही थी.
आया ने मरे बच्चे की परछाई पड़ने के डर से उसे एक ओर कर लिया. डौली ने पूछा- "यह क्या है? आया, माली क्या ले जा रहा है?"
"माली का छोटा बच्चा मर गया है," धीमे-से आया ने उत्तर दिया और डौली को बीच से थाम बंगले के भीतर ले चली.
डौली ने अपनी भोली, नीली आँखें आया के मुख पर गड़ाकर पूछा, "आया, माली के बच्चे को क्या गरम पानी में डुबो दिया?"
"छि: डौली, ऐसी बातें नहीं कहते!" आया ने धमकाया, "आदमी के बच्चे को ऐसे थोड़े ही मारते हैं!"
डोली का विस्मय शान्त न हुआ. दूर जाते माली की ओर देखने के लिए घूमकर उसने फिर पूछा- "तो आदमी का बच्चा कैसे मरता है ?"
लड़की का ध्यान उस ओर से हटाने के लिए उसे बंगले के भीतर खींचते हुए आया ने उत्तर दिया- "वह मर गया, भूख से मर गया है. चलो मामा बुला रही हैं."
डौली चुप न हुई, उसने फिर पूछा- "आया, हम भी भूख से मर जायेंगे?"
"चुप रहो डौली!" आया झुंझला उठी, "ऐसी बात करोगी तो मामा से कह देंगे!"
लड़की के चेहरे की सरलता से उसकी माँ का हृदय पिघल उठा. उस
की धुंधराली लटों को हाथ से सहलाते हुए आया कहने लगी- "बैरी की आँख में राई-नोन! हाय मेरी मिस साहब, तुम ऐसे आदमी थोड़े ही हो!
"भूख से मरते हैं कमीने आदमियों के बच्चे! "
कहते-कहते आया का गला रुंध गया. उसे अपना लल्लू याद आ गया, दो बरस पहले! तभी से तो वह साहब के यहाँ नौकरी कर रही थी.
***

किताब: प्रतिनिधि कहानियाँ
लेखक: यशपाल
प्रकाशन: राजकमल प्रकाशन
पृष्ठ संख्या: 146
मूल्य: 75/- पेपरबैक 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें