scorecardresearch
 

पुण्‍यतिथि विशेष: खलील जिब्रान की दिलचस्‍प कहानियां

मशहूर लेबनानी कवि और लेखक खलील जिब्रान ने 10 अप्रैल 1931 को दुनिया से अंतिम विदा ली थी. लेकिन आज भी जिब्रान अपनी मारक सूक्तियों और लघु कहानियों में जिंदा है. पेश है विश्व के महान दार्शनिक,लेखक, चित्रकार और महाकवि की चुनिंदा रचनाएं:

Kahlil Gibran Kahlil Gibran

मशहूर लेबनानी कवि और लेखक खलील जिब्रान ने 10 अप्रैल 1931 को दुनिया से अंतिम विदा ली थी. लेकिन आज भी जिब्रान अपनी मारक सूक्तियों और लघु कहानियों में जिंदा है. पेश है विश्व के महान दार्शनिक,लेखक, चित्रकार और महाकवि की चुनिंदा रचनाएं:

मेजबान:
'कभी हमारे घर को भी पवित्र करो.' करूणा से भीगे स्वर में भेड़िये ने भोली-भाली भेड़ से कहा.
'मैं जरूर आती बशर्ते तुम्हारे घर का मतलब तुम्हारा पेट न होता.' भेड़ ने नम्रतापूर्वक जवाब दिया.

मोती:

एक बार, एक सीप ने अपने पास पड़ी हुई दूसरी सीप से कहा, मुझे अंदर ही अंदर अत्यधिक पीड़ा हो रही है. इसने मुझे चारों ओर से घेर रखा है और मैं बहुत कष्ट में हूँ. दूसरी सीप ने अंहकार भरे स्वर में कहा, 'शुक्र है! भगवान का और इस समुद्र का कि मेरे अंदर ऐसी कोई पीड़ा नहीं है. मैं अंदर और बाहर सब तरह से स्वस्थ और संपूर्ण हूँ.

उसी समय वहाँ से एक केकड़ा गुजर रहा था. उसने इन दोनों सीपों की बातचीत सुनकर उस सीप से, जो अंदर और बाहर से स्वस्थ और संपूर्ण थी, कहा, 'हाँ, तुम स्वस्थ और संपूर्ण हो; किन्तु तुम्हारी पड़ोसन जो पीड़ा सह रही है वह एक नायाब मोती है.'

तीन चींटिया: 

एक व्यक्ति धूप में गहरी नींद में सो रहा था . तीन चीटियां उसकी नाक पर आकर इकट्ठी हुईं . तीनों ने अपने-अपने कबीले की रिवायत के अनुसार एक दूसरे का अभिवादन किया और फिर खड़ी होकर बातचीत करने लगीं.

पहली चीटीं ने कहा, 'मैंने इन पहाड़ों और मैदानों से अधिक बंजर जगह और कोई नहीं देखी .” मैं सारा दिन यहां अन्न ढ़ूंढ़ती रही, किन्तु मुझे एक दाना तक नहीं मिला.'

दूसरी चीटीं ने कहा, मुझे भी कुछ नहीं मिला, हालांकि मैंने यहाँ का चप्पा-चप्पा छान मारा है . मुझे लगता है कि यही वह जगह है, जिसके बारे में लोग कहते हैं कि एक कोमल, खिसकती ज़मीन है जहाँ कुछ नहीं पैदा होता.

तब तीसरी चीटीं ने अपना सिर उठाया और कहा, मेरे मित्रो ! इस समय हम सबसे बड़ी चींटी की नाक पर बैठे हैं, जिसका शरीर इतना बड़ा है कि हम उसे पूरा देख तक नहीं सकते . इसकी छाया इतनी विस्तृत है कि हम उसका अनुमान नहीं लगा सकते . इसकी आवाज़ इतनी उँची है कि हमारे कान के पर्दे फट जाऐं . वह सर्वव्यापी है.'

जब तीसरी चीटीं ने यह बात कही, तो बाकी दोनों चीटियाँ एक-दूसरे को देखकर जोर से हँसने लगीं . उसी समय वह व्यक्ति नींद में हिला . उसने हाथ उठाकर उठाकर अपनी नाक को खुजलाया और तीनों चींटियां पिस गईं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें