scorecardresearch
 

साहित्य आजतक में हंस राज हंस के मस्त कलंदर पर झूमे दर्शक

साहित्य आजतक में हंस राज हंस के मस्त कलंदर पर झूमे दर्शक

हंस राज हंस ने अपने लोक गीतों से समां बांधा. हंस राज हंस ने अपने गीतों की शुरुआत 'वो कहां कहां न मिले, मेरे मेहरबां...' से शुरुआत की. हंस राज हंस ने कहा कि आज के दौर में सूफी की बेहद जरूरत है. आज जब मजहब मजहब के लड़ रहा है तब सिर्फ सूफी प्यार और शांति का संदेश पहुंचा रहा है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें