scorecardresearch
 

जब शहीदों के अपमान पर जब तिलमिलाए वीर रस कवि डॉ हरिओम पंवार

पुलवामा में सीआरपीएफ हमले के बाद वीर रस के कवि डॉ हरिओम पंवार की कविताओं का याद आना लाजिमी है. पंवार ने साल 2016 में ही साहित्य आजतक के मंच से उस व्यवस्था को कोसा था, जिसके चलते देश की यह दशा हुई है. अपनी एक कविता में उन्होंने यहां तक कह दिया था कि कश्मीर किसी के अब्बा की जागीर नहीं है

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें