scorecardresearch
 

साह‍ित्य आजतक: वाल्मिकी रामायण में लक्ष्मण रेखा का जिक्र ही नहीं

साह‍ित्य आजतक: वाल्मिकी रामायण में लक्ष्मण रेखा का जिक्र ही नहीं

साहित्य आजतक के तीसरे दिन दस्तक दरबार मंच पर सत्र 'साहित्य का धर्मक्षेत्र' का आयोजन किया गया. इस सत्र में कथाकार की कल्पना की उड़ान पर चर्चा हुई. साथ ही साहित्य का धर्मक्षेत्र आखिर क्या है, इस पर भी बातचीत की गई. इस सत्र में सफलतम लेखकों में से एक अमीश त्रिपाठी मौजूद रहे. इनके उपन्यास 'द इम्मारटल्स ऑफ मेलुहा', 'द सीक्रेट ऑफ नागाज' और 'द ओथ ऑफ द वायुपुत्राज' लेखन जगत में काफी लोकप्रिय रहे. अमीश ने कहा कि रामायण, महाभारत को लेकर जो हमारी यादें हैं वो पढ़कर कम बल्कि टीवी धारावाहिकों पर ज्यादा आधारित हैं. उन्होंने कहा कि वाल्मिकी रामायण में 'लक्ष्मण रेखा' का जिक्र ही नहीं है वो रामचरित मानस में है, वो भी सीताहरण के वक्त का नहीं है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें