scorecardresearch
 

साहित्य और राष्ट्रवाद: भारत में राष्ट्रवाद सांस्कृतिक बोध है

साहित्य और राष्ट्रवाद: भारत में राष्ट्रवाद सांस्कृतिक बोध है

साहित्य आज तक 2017 के सत्र 'साहित्य और राष्ट्रवाद' में नेशनल बुक ट्रस्ट के अध्यक्ष बलदेव शर्मा और लेखक-कवि-पत्रकार राजेश जोशी ने साहित्य में राष्ट्रवाद की चर्चा की. बलदेव शर्मा ने कहा कि राष्ट्रवाद के बिना जीवन का ही कोई अर्थ नहीं है. किसी भी देश के अस्तित्व के लिए राष्ट्रवाद आवश्यक है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें