scorecardresearch
 

साहित्य आज तक: कवियों की 'नई आवाज'

साहित्य आज तक: कवियों की 'नई आवाज'

लोकप्रिय होना सफलता की अंतिम कसौटी नहीं है, सफल होने के साथ-साथ सार्थक होना भी जरूरी है. साहित्य आज तक के सत्र 'नई आवाज' में कवि अविनाश मिश्रा, अनुज और हुसैन हैदरी ने अपनी-अपनी कविताओं से श्रोताओं का दिल जीत लिया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें