scorecardresearch
 

प्रसून जोशी की ही आवाज में सुनिए कविता 'बाबुल'

साहित्य के महाकुंभ 'साहित्य आज तक' में मशहूर गीतकार, कवि और एड गुरु प्रसून जोशी ने 'मस्ती की पाठशाला' सत्र में लोक गीतों का जिक्र करते हुए कई खूबसूरत कविताएं सुनाई. प्रसून जोशी ने अपनी लिखी हुई कविता 'बाबुल' को अपनी ही आवाज में सुनाया. आप भी सुनिए.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें