scorecardresearch
 

साहित्य आज तक के मंच पर जावेद अख्तर ने सुनाई ये नज़्म

साहित्य आज तक के मंच पर जावेद अख्तर ने सुनाई ये नज़्म

मशहूर कवि जावेद अख्तर ने 'साहित्य आज तक' के मंच पर अपनी कविता नया हुक्म-नामा सुनाई. 'किसी का हुक्म है, सारी हवाएं.....हमेशा चलने से पहले बताएं. आप भी सुनिए जावेद अख्तर की लाइव नज़्म.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें