scorecardresearch
 

शब्दों और अर्थों में जब मेल हो तभी कविता का खेल हो: अशोक चक्रधर

शब्दों और अर्थों में जब मेल हो तभी कविता का खेल हो: अशोक चक्रधर

साहित्य आज तक के मंच पर 'कवि कुछ ऐसी तान सुनाओ' सेशन में मशहूर कवि हरिओम पंवार, मधु मोहिनी उपाध्याय, पॉपुलर मेरठी, अशोक चक्रधर और डॉ. कुंवर बेचैन ने अपनी कविताएं सुनाईं. अशोक चक्रधर बोले-शब्दों और अर्थों में जब मेल हो तभी कविता का खेल हो. एटीएम में लोग लाइन लगाए खड़े हैं, वो शब्द हैं जो मोतियों से जड़े हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें