scorecardresearch
 

कविता इशारा करती है, खुलकर नहीं कहती: कुमार विश्वास

कविता इशारा करती है, खुलकर नहीं कहती: कुमार विश्वास

'साहित्य आज तक' के मंच पर जब कवि कुमार विश्वास ने अपने सुरों से समां बांधा तो उनकी गजल सुन सब अपने-अपने चाहने वालों में खो गए. आप भी सुनिए कुमार विश्वास की रचना, 'एक मैं हूं.'

poet and political leader kumar vishwas gazal at the stage of sahitya aaj tak

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें