scorecardresearch
 

साहित्य आजतक: 'धर्म का साहित्य और साहित्य का धर्म अलग-अलग है'

साहित्य आजतक के दूसरे दिन प्रख्यात लेखक नरेंद्र कोहली ने कहा कि साहित्य का धर्म पीड़ित के पक्ष में खड़े होना है. 'साहित्य का धर्म’ सत्र में पौराणिक कथाकार नरेंद्र कोहली कहा कि धर्म का साहित्य और साहित्य का धर्म अलग है.To License Sahitya Aaj Tak Images & Videos visit www.indiacontent.in or contact syndicationsteam@intoday.com

On the second day of Sahitya Aajatak 2018, Writer Narendra Kohli discussed on Sahitya Ka Dharm. He has been Written many books. During the session, He said, religion of literature and literature of religion, both are different things.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें