scorecardresearch
 

साहित्य आजतक 2019: समय के साथ साहित्य को बदलना होगा, तभी जुड़ेंगे युवा

कच्छ से साबरमती, गुजराती साहित्य का उत्सव विषयक सत्र में लेखक और अनुवादक दीपक मेहता, कवि और अनुवादक दिलीप झावेरी, साहित्य अकादमी की युवा पुरस्कार विजेता कवियत्री एषा दादावाल ने गुजराती भाषा और इसके साहित्य के विविध पहलुओं पर चर्चा की.

'कच्छ से साबरमती, गुजराती साहित्य का उत्सव' विषयक सत्र में लेखक 'कच्छ से साबरमती, गुजराती साहित्य का उत्सव' विषयक सत्र में लेखक

  • युवा पीढ़ी का साहित्य से वास्ता न के बराबर
  • समय के साथ बदलते हैं मूल्, कविता इससे परे

साहित्य आजतक के मंच पर रविवार को गुजरात के साहित्य और भाषा पर चर्चा हुई. 'कच्छ से साबरमती, गुजराती साहित्य का उत्सव' विषयक सत्र में लेखक और अनुवादक दीपक मेहता, कवि और अनुवादक दिलीप झावेरी, साहित्य अकादमी की युवा पुरस्कार विजेता कवयित्री एषा दादावाल ने गुजराती भाषा और इसके साहित्य के विविध पहलुओं पर चर्चा की. चर्चा में एक बात पर तीनों ही सहमत नजर आए कि गुजराती साहित्य को समय के साथ बदलना होगा, तभी युवा इससे जुड़ेंगे.
वैष्णव जन की पंक्तियों के साथ शुरू हुए सत्र में दीपक मेहता ने कहा कि महात्मा गांधी की वजह से यह गीत और गुजराती भाषा विश्व के कोने-कोने तक पहुंची. गांधी की वजह से गुजराती को विस्तार मिला. उन्होंने महात्मा गांधी की आत्मकथा का उल्लेख करते हुए कहा कि उन्होंने इसे अपनी मातृभाषा गुजराती में लिखा था. इसका दुनिया की जितनी भाषाओं में अनुवाद हुआ, उतना गुजराती की किसी पुस्तक का नहीं हुआ. दीपक ने कहा कि गांधीजी की जीवनी मूल रूप में पढ़ने के लिए कई लोगों ने गुजराती भाषा सीखी.  

गुजराती साहित्य को कहां देखते हैं, इस सवाल पर उन्होंने कहा कि आज की युवा पीढ़ी का गुजराती साहित्य से वास्ता न के बराबर है. युवा संगीत, फिल्म, नाटक जैसी अन्य विधाओं में तो दिलचस्पी रखते हैं, लेकिन साहित्य से कनेक्ट नहीं कर पा रहे हैं. दीपक मेहता ने कहा कि इसमें युवा पीढ़ी ही नहीं साहित्यकारों का भी दोष है. साहित्यकार अपनी बातों में ही मग्न हैं. वह युवाओं से जुड़ने के लिए परिश्रम नहीं कर रहे. लेखक युवाओं की अनदेखी कर रहे हैं और युवा इनकी.

_yim0408_110319081720.jpgदीपक मेहता

उन्होंने कहा कि अब भाषा को, साहित्य को लोगों तक ले जाने के लिए सिर्फ प्रिंट मीडियम पर निर्भरता नहीं रहनी चाहिए. नई पीढ़ी की आदत किताब पढ़ने की छूट रही है. अब युवा पीढ़ी व्हाट्सएप, ब्लॉग, ई-बुक्स पढ़ती है. लोगों तक पहुंचाने का माध्यम बदलना पड़ेगा. दीपक मेहता ने कहा कि जब मुद्रण कला नहीं थी, तब हस्त पत्र और मौखिक माध्यम चलन में थे. आज नई विधाएं आई हैं, इनका उपयोग करना होगा. उन्होंने गुजराती साहित्य की समृद्धि की चर्चा करते हुए 1857 में महिलाओं के लिए प्रकाशित हुई पत्रिका का भी उल्लेख किया.

भाषा सत्ता से नहीं डरती

पेशे से चिकित्सक कवि, अनुवादक, नाटककार और संपादक दिलीप झावेरी ने कहा कि कविता और अपने पेशे के बीच तारतम्य को लेकर किए गए सवाल के जवाब में कहा कि जिंदा रहने के लिए डॉक्टर हूं, लेकिन कविता जिंदा रहने का मतलब देती है. उन्होंने 'जलती समां को बुझाकर कोई कहे' कविता सुनाकर भी कविता का अर्थ बताया.

_yim0419_110319081759.jpgदिलीप झावेरी

उन्होंने वर्तमान परिवेश और साहित्य को लेकर टिप्पणी करते हुए कहा कि समय के साथ इन्सान के मूल्य बदलते रहते हैं, लेकिन कविता मूल्य से परे है. भाषा सत्ता से नहीं डरती. भाषा खुली है, खेत है, आसमान है. झावेरी ने आयरिश लेखक गैब्रियल की महात्मा गांधी पर लिखी रचना सुनाई और कहा कि सच्चे कवि को कौन पढ़ता है और कौन नहीं, इससे फर्क नहीं पड़ता.

मंच नहीं मिलता तो आज यहां नहीं होती गुजराती

साहित्य अकादमी युवा पुरस्कार से नवाजी जा चुकीं एषा दादावाल ने गुजराती साहित्य की अनदेखी से जुड़े सवाल पर कहा कि मंच नहीं मिलता तो साहित्य आजतक में गुजराती भाषा नहीं होती. 16 वर्ष की उम्र में लिखी हुई अपनी पहली कविता डेथ सर्टिफिकेट सुनाते हुए उन्होंने कहा कि मुझे कविता से क्रांति नहीं लानी, अपने अनुभवों को लिखती हूं.

_yim0386_110319081822.jpgएषा दादावाल

एषा ने कहा कि आज की युवा पीढ़ी व्हाट्सएप पर, सोशल मीडिया पर ज्यादा सक्रिय है. हमें साहित्य को उन तक पहुंचाने के लिए जरिया बदलना होगा. आज युवाओं को व्हाट्सएप की बीप और ब्लू टिक में इंट्रेस्ट है. क्या आज भाषा पीछे छूटती जा रही है, इस सवाल पर उन्होंने कहा कि समय जिस तरह बदल रहा है, ऐसा स्वाभाविक है. एषा ने कहा कि भाषा जल्दी नहीं मरती, सोशल मीडिया पर गुजराती भाषा में लिखने वालों की संख्या बढ़ रही है. उन्होंने कहा कि युवा तभी पढ़ेंगे, जब उनके समझने लायक लिखा जाएगा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें