scorecardresearch
 

साहित्य आज तक में बोले पीयूष मिश्रा, 'कुछ इश्क किया कुछ काम किया'

'साहित्य आज तक' के मंच पर कवि, एक्टर पीयूष मिश्रा और गीतकार स्वानंद किरकिरे ने आज की यूश, उनकी सोच, भाषा और कविता के बारे में बात की. उन्होंने अपने कविताओं और गानों से लोगों का खूब मनोरंजन भी किया.

पीयूष मिश्रा और स्वानंद किरकिरे पीयूष मिश्रा और स्वानंद किरकिरे

साहित्य के सबसे बड़े मंच 'साहित्य आज तक' पर आए एक्टर, गीतकार पीयूष मिश्रा और गीतकार स्वानंद किरकिरे ने अपनी कविताओं और गानों से लोगों का खूब मनोरंजन किया.

पीयूष मिश्रा तो नौजवानों की तरह जोश में दिखे और बड़ी बेबाकी से देश के ज्वलंत मुद्दों पर अपनी राय रखी. पीयूष ने कहा, मैं जब चुप बैठता हूं तो लोगों को लगता है कि मैं उदास हूं. सब कहते हैं, मुस्कुरा क्यों नहीं रहे. मैं कहता हूं, 'मुस्कराने पर किसी की मुहर नहीं है. उदासी किसी के बाप की धरोहर नहीं है.'

पीयूष कहते हैं, यह सब आजकल के नौजवानों की भाषा है और मुझे भी यही भाषा पसंद है. जरूरी नहीं है कि हम सनातन काल की भाषा का आज भी प्रयोग करें. जो भाषा लोगों को कम्यूनिकेट करे उसका ही प्रयोग हमें करना चाहिए. लोग भाषा के कपड़े बदलने ही नहीं देते वो उसे क्लिष्ट ही बनाए रखना चाहते हैं. पीयूष के मुताबिक जवान लोगों के साथ रहने से पता चलता है कि आजकल दुनिया में क्या चल रहा है.

पहले के पीयूष कैसे थे? इस बारे में बताते हुए वो कहते हैं, पहले मैं बहुत बदतमीज थी. गालियां देता था, किसी को भी थप्पड़ मार देता था. हालांकि अब मैं बदल गया हूं. लेकिन मेरी अच्छाई पर कोई विश्वास नहीं करता.

2012 दिल्ली गैंगरेप के बारे में भी पीयूष ने अपनी राय रखी. 'शहर हमारो सो गयो थो, जिस रात शहर में खून की बारिश आई रे' कविता के माध्यम से उन्होंने बताया कि उस दिन निर्भया का दो बार रेप हुआ था. अक बार बस में और दूसरी बार दिल्ली की सड़कों पर, जब उनकी कोई मदद करने नहीं आया.

स्वानंद किरकिरे ने कवि और कविता के बारे में कहा कि कविता लोगों में भावनाएं जगाता है लेकिन पीयूष ने इस बात का विरोध करते हुए कहा, ये सब बकवास है. आर्ट 'आर्टिफिशियल' शब्द से बना है. आर्ट समाज में चेतना नहीं जगा सकता. आर्ट मजा लेने के लिए होता है. आर्ट का काम राहत देना होता है.

स्वानंद ने पीयूष को अपनी प्रेरणा बताया. उन्होंने बताया कि जब मैंने पीयूष को गाते, एक्टिंग करते हुए देखा, तो मेरे मन में भी गाने लिखने की ख्वाहिश जगी. अगर पीयूष नहीं होते तो मैं भी यहां ना होता. स्वानंद और पीयूष ने बीच-बीच में गाने और कविताएं सुनाकर लोगों का दिल जीत लिया. स्वानंद ने 'बावरा मन' और 'मसान' फिल्म का गाना 'तू किसी रेल से गुजरती है....मैं किसी पुल सा थरथराता हूं' गाया.

पीयूष के बारे में एक दिलचस्प बात भी सामने आई. दरअसल पीयूष को 1989 की सुपरहिट फिल्म 'मैंने प्यार किया' ऑफर हुई थी लेकिन किन्हीं वजहों से वो यह फिल्म कर नहीं पाए. इस बारे में पीयूष ने कहा, यह सब भूली-बिसरी बातें हैं. क्यों आप लोग मेरी सलमान से लड़ाई करवा रहे हैं. तो क्या कभी पीयूष को इश्क हुआ है? इस बात को पीयूष ने कहा, 'कुछ इश्क किया कुछ काम किया.'

स्वानंद किरकिरे ने कहा प्रसून जोशी ने 'पाठशाला' शब्द को फेमस कर दिया. उसके पहले लोग 'पाठशाला' शब्द का प्रयोग नहीं करते थे. मुझे नहीं समझ आता कि लोग यह क्यों सोचते हैं कि जनता को कठिन शब्द नहीं समझ आएंगे. हमारी जनता बहुत बुद्धिमान है, वह सब समझती है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें