scorecardresearch
 

साहित्य आज तक: हिन्दी फिल्में और गानें कूल हैं तो किताबें क्यों नहीं- चेतन भगत

साहित्य आज तक के महामंच से अंग्रेजी के पॉपुलर लेखल चेतन भगत हुए जनता से रू-ब-रू, कहीं अपने दिल और दुनिया की बातें. पॉपुलर लेखन और देश की राजनीति पर खुल कर रखीं अपनी बातें. जानें क्या-क्या कहा...

Chetan Bhagat Chetan Bhagat

अंग्रेज़ी के युवा लेखक चेतन भगत का कहना है कि अगर हिंदी के गानों को सुनना कूल है, हिंदी की फिल्मों को देखना कूल है तो ऐसा क्यों है कि हम हिंदी की किताबों को हाथ में लेकर चलने से, लोगों के सामने उन्हें पढ़ने से हिचकते हैं. हिचक की इस ग्रंथि को खत्म करके हिंदी के लेखन को स्वीकार करना चाहिए.

चेतन रोमन हिंदी की भी वकालत करते हैं और कहते हैं कि उनकी नब्ज़ पाठकों पर है. वो जानते हैं कि नया पाठक क्या पढ़ना चाहता है और किसमें उसकी रुचि है.

साहित्य आज तक में पहुंचे चेतन भगत से बात की गौरव सावंत ने. सावंत के सवालों पर चेतन कुछ इस तरह जवाब देते हैं--

मैं अपनी किताब में आम बोलचाल की भाषा को जस का तस लिखने की कोशिश करता हूं. मुझे लोग पतंजलि इंग्लिश कह कर तुलना करते हैं. इस तरह आप मुझे नीचा दिखाने की कोशिश करते हैं. साथ ही आप बाबा रामदेव के एक ऑर्गेनिक प्रोडक्ट को नीचा दिखाने की कोशिश करते है. वे दुनिया की मल्टीनेशनल कंपनियों से मुकाबला कर रहे हैं और विश्वास मानिए कि यह आसान नहीं है.

एक महिला की दृष्टि से लिखने के लिए आपने वैक्सिंग भी कराई?
नहीं मैंने महिलाओं से बात की. मैंने वैक्सिंग कराई. मैं पार्लर कराया. जैसे कि महिला से यह अपेक्षा की जाती है कि वह वैक्सिंग कराये. बहुत दर्द हुआ मगर कैरेक्टर के हिसाब से लिखने के लिए यह जरूरी था.

एक नया टर्म भी है ब्राजीलियन वैक्स?
ब्राजील में दरअसल समुद्री तट हैं. उसके हिसाब से महिलाएं वैक्सिंग कराती हैं. इसमें कुछ भी नया नहीं है. आप चाहें तो गूगल कर लें.

आपनें महिलाओं के नजरिए से सेक्स के बारे में लिखा?
हमारे यहां चीजों को स्वस्थ तरीके से देखने की आदत नहीं है. यहां लोग सेक्स करते तो हैं मगर कोई बात नहीं करना चाहता. हम इस पर बात नहीं करना चाहते. हम दूसरों पर चीजों को थोपने के आदी हैं. सेक्स तो प्रकृति का नियम है. इसमें कुछ भी नया नहीं है.

आप अपनी कहानी में पंजाबी शादी दिखाते हैं?
मैं अपनी किताबों में पंजाबी शादियां दिखाता हूं क्योंकि मैं उससे वाकिफ हूं. उससे दूसरों को अवगत करा सकता हू. सहज भाव से उस पर लिख सकता हूं

आपकी किताबें इतनी अधिक क्यों बिकती हैं, आपके पास कोई फॉर्मूला है?
मैं आसान भाषा में लिखने की कोशिश करता हूं. लोग मेरी कहानियों से कनेक्ट करते हैं. जैसे लड़कों के लिए हाफ गर्लफ्रेंड. यहां लड़कियां पटती नहीं और हाफ गर्लफ्रेंड ही रह जाती हैं. आज मैं भी पढ़ने के बजाय यू ट्यूब वीडियोज देखना पसंद करते हैं.

आप हिन्दी अच्छी बोलते हैं. क्या कभी हिन्दी में लिखने का प्लान है?
मैं कोशिश में हूं कि मेरी किताबें हिन्दी में भी आए. हम पुराने रूल्स में फंसे हैं. लोग हिन्दी फिल्मों को देखते हैं, हिन्दी के गाने सुनते हैं, मगर हिन्दी की किताबें पढ़ना अच्छी नजरों से नहीं देखा जाता. हमारे देश में हमारी भाषा को ही हेय नजरों से देखा जाता है. हिन्दी बनाम अंग्रेजी की बहस से बचें. हमें दोनों की जरूरत है.

यह चीजें कैसे बदलेगी?
धीरे-धीरे चीजें बदल रही हैं. हिन्दी साहित्य एक समय रेलवे स्टेशन पर बिकने वाली चीज हो गई. हिन्दी में उच्च वर्ग का भाव है. बच्चों को मतलब की चीजें मतलब की भाषा में मिलें. देवनागरी और रोमन में कन्फ्यूज न हों. लिपि और भाषा के सवाल पर न फंसें.

आप मठाधीशों के सवाल और सम्मान पर क्या कहेंगे?
जानकार लोग मुझे याद करते हैं. लोग मुझे पढ़ते हैं. उनका प्यार ही मेरे लिए बहुत है. साहित्य में भी जाति व्यवस्था है. सभी को ब्राम्हण ही बनना है. हम खुद को ही ब्लडी इंडियन कहने से बचें. हम उस अभिजात्य भाव से बचे. दुनिया और अमेरिका की मीडिया ट्रंप को खारिज करती रही और वह वहां जीत कर बढ़ गए. एक बार मेरी पहुंच बन जाने के बाद मैं अलग-अलग मुद्दों पर लिखने की कोशिश करता हूं.

नए नोटों के आने और पुराने नोटों का खात्मा आपके लिए क्या है?
नहीं यह अच्छा कदम है. हम लोकतंत्र में हैं. एक राजनेता जो रिस्क लेता है लोग उस फैसले का स्वागत करते हैं. हम इस तरह कालेधन पर रोक लगा सकते हैं. आप उनकी सैंपलिंग करते हैं. हालांकि यह छोटी कमाई वाले लोगों के लिए आफत बन गई है. सरकार ने उसकी कोई प्लानिंग नहीं की. यह एक जाहिर सी चीज है. अगर देश के 2 लाख एटीएम मशीन चल रहे होते तो दिक्कत नहीं होती.

क्या आप हिन्दी में अगली किताब लिखेंगे?
किताब लिखने के लिए जो व्याकरण की शुद्धता होनी चाहिए. उस फ्रंट पर मैं अक्षम हूं. मुझे नहीं लगता है कि मैं उस विधा में माहिर हूं. हालांकि वे स्क्रिप्ट तो हिन्दी में ही लिखते हैं और लोग उसे समझ जाते हैं. यह सिम्पल सी चीज है. मैं लैपटॉप पर अंग्रेजी लिखने में खुद को सहज पाता हूं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें