scorecardresearch
 
साहित्य आजतक

साहित्य आजतक: अंतिम दिन भी सजी सितारों की महफिल, Photos

साहित्य आजतक: अंतिम दिन भी सजी सितारों की महफिल, Photos
  • 1/13
साहित्य का सबसे बड़ा महाकुंभ 'साहित्य आजतक 2019' का समापन हो गया. साहित्य, कला, संगीत, संस्कृति का यह जलसा दिल्ली के इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र में एक से तीन नवंबर तक चला. साहित्य आजतक  के तीसरे और अंतिम दिन गजल सम्राट अनूप जलोटा, शायर राहत इंदौरी, पंकज उधास, गीतकार मनोज मुंतशिर से लेकर हंसराज हंस समेत कला और साहित्य की कई हस्तियों ने शिरकत की.
साहित्य आजतक: अंतिम दिन भी सजी सितारों की महफिल, Photos
  • 2/13
दिन की शुरुआत भजन सम्राट अनूप जलोटा के सत्र से हुई. उन्होंने जिस तरह केवट राम संवाद को भजन और व्याख्या के जरिए सुनाया, हर कोई राम धुन में रम गया. उनके भजनों को लोग उनके साथ-साथ गुनगुना रहे थे.
साहित्य आजतक: अंतिम दिन भी सजी सितारों की महफिल, Photos
  • 3/13
फिल्म बाहुबली के डायलॉग लिखने वाले गीतकार मनोज मुंतशिर ने अपने कई डायलॉग पर दिल्लीवालों से राय मांगी तो लोगों ने हामी भरी. महिलाओं पर अत्याचार को लेकर उन्होंने कहा कि जो औरत का दर्द नहीं समझता, मनोज मुंतशिर उसको मर्द नहीं समझता.
साहित्य आजतक: अंतिम दिन भी सजी सितारों की महफिल, Photos
  • 4/13
साहित्य आजतक के मंच से गरजत बरसत सेशन में जाने माने लेखक, उपन्यासकार व प्ले राइटर असगर वजाहत ने साहित्य के विभिन्न पहलुओं पर बात की. यहां उन्होंने सोशल मीडिया की भूमिका पर कहा कि आज के जागरूक समाज ने सोशल मीडिया के महत्व को पूरी तरह स्वीकार किया नहीं है. इसे समाज ने उपयोगी या बहुत गंभीर नहीं माना. जरूरी है कि सोशल मीडिया को हम महत्व दें या इस रूप में स्वीकार करें कि इसकी कोई भूमिका है.
साहित्य आजतक: अंतिम दिन भी सजी सितारों की महफिल, Photos
  • 5/13
साहित्य आजतक के मंच पर कवि, आलोचक और रचनाकार उदय प्रकाश ने सत्र 'साहित्य का उदय' में हिस्सा लिया. यहां उनके काव्य संग्रह 'अंबर में अबावील' का लोकार्पण भी किया गया. इस संग्रह की एक कविता के बारे में उदय प्रकाश ने कहा कि ज्यादा बड़ी कविता के नीचे उतना ही बड़ा श्मशान होता है और जितना बड़ा श्मशान होगा उतना ही महान कवि और राष्ट्र होगा.
साहित्य आजतक: अंतिम दिन भी सजी सितारों की महफिल, Photos
  • 6/13
पंकज उधास ने अपना गीत चिट्ठी आई गीत है सुनाया. उन्होंने बताया कि मेरे इस गीत को यू ट्यूब पर 17 मिलियन हिट मिले थे. एक साल में ये गीत सबसे ज्यादा सुना गया. इस गीत के साथ मुझे ऐसे-ऐसे अनुभव हुए हैं कि इस गाने पर अकेले मैं किताब लिख सकता हूं.
साहित्य आजतक: अंतिम दिन भी सजी सितारों की महफिल, Photos
  • 7/13
साहित्य आजतक के मंच पर मधु चतुर्वेदी की किताब मन अदहन का विमोचन किया गया. ये किताब एका वेस्टलैंड प्रकाशन से प्रकाशित की गई है.
साहित्य आजतक: अंतिम दिन भी सजी सितारों की महफिल, Photos
  • 8/13
साहित्य आजतक के मंच पर पुस्तक मुझे सुनते रहे लोग वाकया मेरा, एन ऑफिशियल ऑफ राहत इंदौरी पुस्तक का विमोचन किया गया. ये किताब डॉ दीपक रूहानी ने लिखी है. संवाद मंच से राहत इंदौरी ने अपनी शायरी से लोगों से खूब वाहवाही लूटी. उन्होंने यहां कहा कि बड़ा शायर होने के लिए शायर को पागल आशिक दीवाना और थोड़ा बदचलन होना चाहिए. लेकिन मैं बड़ा शायर इसलिए नहीं बन पाया क्यों‍कि मैं आखिरी शर्त पूरी नहीं कर पाया.
साहित्य आजतक: अंतिम दिन भी सजी सितारों की महफिल, Photos
  • 9/13
रोमांटिक फिल्मों के रॉकस्टार इम्तियाज अली ने साहित्य आजतक 2019 के मंच पर गीत संगीत के साथ देश के हालातों पर चर्चा की. क्या उन्हें भी दूसरे एक्टर्स की तरह देश में खतरा महसूस होता है? के सवाल पर इम्तियाज ने कहा कि मैं ये सब नहीं देखना चाहता. बहुत से काम हैं देखने और सोचने के लिए. मुझे अभी तक ऐसा फील नहीं हुआ है. राष्ट्रवाद को लेकर कोई विवाद नहीं हो सकता. पार्टियों को लेकर विवाद हो सकते हैं. मुझे देश में कोई खतरा महसूस नहीं होता.
साहित्य आजतक: अंतिम दिन भी सजी सितारों की महफिल, Photos
  • 10/13
दस्तक दरबार में सूफियाना शाम ने हंसराज हंस के गीतों ने लोगों को सूफी रंगत से रंग दिया. उन्होंने मजा ए इश्क और जिन्हें देखने के लिए जा रहे हैं, वो पर्दे पर पर्दा किए जा रहे हैं, कव्वाली सुनाई तो पूरा माहौल तालियों की गड़गड़ाहट से गूंज गया.
साहित्य आजतक: अंतिम दिन भी सजी सितारों की महफिल, Photos
  • 11/13
साहित्य आजतक 2019 के मंच पर 'हमारे समय में प्यार' सेशन में कवियत्री अनामिका और बाबुषा कोहली ने हिस्सा लिया. इस मौके पर बाबुषा कोहली की किताब आईनाबाज का लोकार्पण किया गया.
साहित्य आजतक: अंतिम दिन भी सजी सितारों की महफिल, Photos
  • 12/13
गीतकार स्वानंद किरकिरे ने कहा कि गांधी पर मेरा मानना ये है कि मेरे गांधी, तुम्हारे गांधी करने से बेहतर होगा कि गांधी को आत्मसात किया जाए. गांधी हम सबमें हैं. उन्होंने ये भी कहा कि इतिहास हमेशा से बदलने की कोशिश की जाती है, मगर इतिहास को बदला नहीं जा सकता है.
साहित्य आजतक: अंतिम दिन भी सजी सितारों की महफिल, Photos
  • 13/13
साहित्य आजतक का तीन दिवसीय उत्सव समाप्त हुआ. नमी और ठंड समेटे तीन नवंबर की रात को आठ बजे लोग पूरे जोशोखरोश के साथ शुभा मुद्गल को सुन रहे थे. इस तरह साहित्य के अनोखे उत्सव का समापन हुआ.