scorecardresearch
 
साहित्य आजतक

साहित्य आजतक: इंग्लिश लिटरेचर पर इन लेखकों ने दी अपनी राय...

साहित्य आजतक: इंग्लिश लिटरेचर पर इन लेखकों ने दी अपनी राय...
  • 1/7
'साहित्य आजतक' के मंच पर इंग्लिश लिटरेचर पर बात करने के लिए लेखकों की मंडली पहुंची. अनुजा चौहान, रविंदर सिंह और श्रीमई पियू कुंडू सेशन 'लव, लस्ट एंड लाइफ इन इंग्लिश' में अपने विचार रखें. इंडिया टुडे ग्रुप की डायरेक्टर कली पुरी ने इसका संचालन किया.
साहित्य आजतक: इंग्लिश लिटरेचर पर इन लेखकों ने दी अपनी राय...
  • 2/7
इस सत्र में लेखन की दिक्कतों, हमारे समाज में सेक्स को लेकर जारी दोहरेपन और मॉरल पुलिसिंग जैसे मुद्दों पर चर्चा हुई.
साहित्य आजतक: इंग्लिश लिटरेचर पर इन लेखकों ने दी अपनी राय...
  • 3/7
श्रीमोई ने कहा, 'छोटे शहरों की महिलाओं को तो और भी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है. छोटी उम्र में शादी के बाद लगातार घरेलू हिंसा का सामना करना बड़ा मुश्किल होता है. वह भी बाहर निकलना चाहती हैं.'
साहित्य आजतक: इंग्लिश लिटरेचर पर इन लेखकों ने दी अपनी राय...
  • 4/7
अनुजा चौहान ने बताया कि ये बहुत अच्छी बात है कि हमारे देश में लोगों को बहुत सारी भाषाएं आती हैं.
साहित्य आजतक: इंग्लिश लिटरेचर पर इन लेखकों ने दी अपनी राय...
  • 5/7
लेखकों को मानना है कि कुछ शब्द और वाक्य इंग्लिश में ज्यादा सही लगते हैं.
साहित्य आजतक: इंग्लिश लिटरेचर पर इन लेखकों ने दी अपनी राय...
  • 6/7
रविंद्र सिंह ने कहा, 'मैं लिखता भले ही अंग्रेजी में हूं, पर सोचता हिंदी या पंजाबी में हूं.
साहित्य आजतक: इंग्लिश लिटरेचर पर इन लेखकों ने दी अपनी राय...
  • 7/7
अनुजा चौहान ने कहा कि हमें हर मुद्दे पर बात करनी चाहिए. हम दोहरे मापदंड वाले लोग हैं. हम सबसे अधिक पोर्न देख रहे हैं लेकिन उसे कोई स्वीकार नहीं करना चाहता. मैं तीन बच्चों को पाल रही हूं. हमें इस शब्द से निषिद्धता को हटाने की जरूरत है. हमारे यहां चीजें उलझी हुई हैं.