scorecardresearch
 

लोकप्रियता के फ्रेम में 'लमही'

ज्यादातर हिंदी पत्रिकाएं अपने इस दायित्व से विमुख हैं. इसलिए समाचार पंजीयक कार्यालय से पंजीकृत हजारों पत्रिकाओें में केवल दशाधिक ही ऐसी हैं जिनमें ऐसे विषयों के प्रति सुगबुगाहट मिलती है. लमही उनमें एक है. साहित्यिक पत्रिका लमही के अक्तूबर-दिसंबर अंक की समीक्षा.

पत्र‍िका का कवर पत्र‍िका का कवर

कुल मिलाकर वही दो-चार कहानियां, कुछ कविताएं, लेख, समीक्षाएं, नब्बे फीसदी हिंदी पत्रिकाओं की अंतर्वस्तु लगभग यही है. वहां नया क्या है ? भाषा, समाज, जीवन और लोगों पर असर डालने वाले मुद्दे किस नए रुप में सामने आ रहे हैं? ज्यादातर हिंदी पत्रिकाएं अपने इस दायित्व से विमुख हैं. इसलिए समाचार पंजीयक कार्यालय से पंजीकृत हजारों पत्रिकाओें में केवल दशाधिक ही ऐसी हैं जिनमें ऐसे विषयों के प्रति सुगबुगाहट मिलती है. लमही उनमें एक है. कथा सम्राट प्रेमचंद के दौहित्र विजय राय ने अपने नाना महताब राय के गांव लमही को केंद्र में रख कर 2008 में जब पत्रिका निकालनी शुरू की तो यही मंशा थी कि कहानी की प्रयोगशीलता में बिलाती जा रही किस्सागोई को पुनर्जीवन मिले. गांव, समाज और शहरी ताने बाने की किस्सागोई की परंपरा कहानियों की नई व वर्णशंकर प्रजातियों में गुम न हो जाए. अक्तूबर-दिसंबर 15 का लमही का ताज़ा अंक इन्हीं बातों का प्रत्युत्तर है.

विजय राय का संपादकीय इस चिंता से लैस है कि ‘खूब लिखा जा रहा है. गरीब लिख रहे हैं, अमीर लिख रहे हैं, सबसे ज्यांदा तो खाए पिये और अघाए लोग लिख रहे हैं, पेड़ों की फुनगियों पर कविताएं लिख रहे हैं, सरकारी यात्राओं पर कहानियां व कविताएं लिख रहे हैं पर इसमें सबके हित यानी साहित्य  के मूल भाव की अनुपस्थि ति है. इसमें तात्कानलिकता अधिक है मुद्दा कम.' और इसी चिंताके मद्देनजर लमही की अंतर्वस्तुु का ताना बाना बुना गया है.

अपनी कहानियों के लिए पहचाने जाने वाले हरि‍चरण प्रकाश समाज की व्याधियों पर नजर डालने वाले अपने विस्तृत क्रिटिकल नजरिए के साथ सामने आते हैं. कहने को यह समीक्षा है पर इसका आयाम उन तमाम चिंताओं को छूता है जिसे प्रो सत्य पाल गौतम ने अपनी पुस्तक समाजदर्शन में उठाया है. वे चुपके से एक सच उधेड़ते हैं कि कैसे हमारी सामाजिक परंपरा में एक लंबे अरसे तक भारतीय जनमत ब्राह्मणवादी विचारधारा का मंगलभाष्य बना रहा है. यों तो लमही के इस अंक में खेमकरन सोमन व संध्यात नवोदिता व रमा यादव जैसे वास्तव में कुछ नया रचने वाले कवि व कवयित्रियां शामिल हैं पर इस बार लमही के खाते में हैं दो नायाब संस्मरण. अफसानानिगार इस्मत आपा पर सबीहा अनवर का संस्मरण बहुत आत्मीयता और तमाम ब्यौरों के साथ बुना गया है तो वरिष्ठ  पत्रकार लेखक योगींद्र द्विवेदी अमृतलाल नागर की जन्म‍शती के बहाने स्मृंति संरक्षण के प्रति हमारी उदासीनताओं की सींवने उधेड़ते हैं. इस्मत पर इतनी हिलोरें लेती यादगार बातें इधर देखने में नहीं आई. सबीहा यादों के हुजूम में इस्मत के साथ एक सुरीला सफर करती हैं. योगींद्र न केवल नागर की स्मृति स्थल की वीरानी का हाल बयान करते हैं बल्कि  इस बहाने वे हिंदी के तमाम रचनाकारों को भुला दिए जाने की हद तक स्मृतिविहीनता का खाका भी खींचते हैं. लमही नयों को भी प्रतिष्ठित करती है. पंखुरी सिन्हा  ने अपने आलेख में मंजे और तराशे हुए नवलेखन का ही आकलन किया है.

लमही में सुमति सक्सेना लाल की पुस्तक से लेकर रचना शर्मा की पुस्तक तक दशाधिक समीक्षाएं भी हैं पर इस बार लमही कहानियों से मालामाल है. प्रेमचंद की परंपरा से लमही जुडती है तो उसके नमूने भी यहां दिखते हैं। जाफर मेंहदी जाफरी की कहानी धूप निकलेगी अस्पृश्यता और इस धराधाम पर बची हुई मानवता के कतरे समेटती हुई यह कहानी प्रेमचंद के जमाने के आदर्शवादी यथार्थ को जिंदा कर देती है. वही सादाबयानी, वही अंदाजेबयां. इसी आयाम के दूसरे पहलुओं को छूती है बलराम अग्रवाल की सलीके से लिखी कहानी यात्रा, मदारी, सपेरे और सांप. उन्होंने यहां कैसे एक तिलकधारी पंडिज्जीगकी बखिया उधेड़ी है कि चित्त प्रसन्ना हो उठता है. रजनी गुप्तं फ्रेमबद्ध छवियां में प्रेम के पुराने पड़ चुके फ्रेम की करीने से जामातलाशी लेती हैं और अब तो वे इस विषय की उस्ता द लेखिका हैं. रीतादास राम ने कामवाली के दाम्पत्य के बहाने स्त्री जीवन की सुपरिचित दुश्वारियों की तहें खोली हैं.

पर जो कहानी अपनी तमाम नाटकीयता के साथ स्त्री पुरुष के जीवन में प्राय: घटित होने वाले वृत्तांतों से बनती है वह है नरेन्द्र  सैनी की डेडलाइन. कहते हैं शक दोस्ती का दुश्मन है. तो सच का इजहार कितना भयावह. किसी शायर ने कहा है: सच बोलना भी लाजिम जीना भी है जरूरी. सच बोलने की धुन में मंसूर हो न जाना. पर डेडलाइन की नायिका अपने जीवन की पहली पायदान पर कदम रखते ही सच उजागर कर देती है और फिर सुहाग उजड़ने की हद तक यह कड़वा सच उसका पीछा करता है. हालांकि कहानी का अंत आश्चकर्यजनक ढंग से सुखद है पर आधी से अधिक स्त्री -पुरुषों की आबादी इसी शक-सुबहे पर जीती है कि वह जिससे प्यांर करता है उसके कहीं अन्यत्र अफेयर तो नहीं हैं. नरेंद्र की कहानी रिश्तों पर आधारित कहानियों की घिसी पिटी पारिभाषिकी की कसौटी को लांघती हुई वाकई नए सीमांत तलाशती है. पर अंत ऐसा अप्रत्याशित कि जैसे कि ग़ज़ल के बारे में बशीर बद्र कहते हैं: वो गजल का लहजा नया-नया, न कहा हुआ न सुना हुआ. लमही ने आठ साल के वक्फे  में अब लेखकों-पाठकों के दिलों में निश्चय ही एक जगह बना ली है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें