scorecardresearch
 

तर्क की कसौटी पर कसती है 'भारत में देवी'

हिन्दुओं के धर्मग्रन्धों में ऐसे किस्सों की कोई कमी नहीं जो हिन्दुओं की देवी और उनकी दैवीय शक्तियों का उल्लेख न करती हो. लेकिन ऐसे किस्से बहुत कम मिलते हैं, जो देवियों के पतित हो जाने या फिर जाने अनजाने उनसे या उनके साथ हुए पाप का उल्लेख प्रमुखता से किया जाता हो.

हिन्दुस्तान में हिन्दू धर्म में आस्था रखने वालों में शायद ही ऐसा कोई घर होगा जहां देवी पूजन न होता हो. कश्मीर से कन्याकुमारी तक और अरुणाचल प्रदेश से लेकर कच्छ के रन तक हर कहीं देवी की उपासना का अलग -अलग महत्व है. और इस देश में जितनी भी देवी हैं और उनकी उपासना की कहानियां हैं उनका कोई न कोई सिरा हिन्दुओं की प्रमुख किताबों से जाकर जरूर मिलता है.

हिन्दुओं के धर्मग्रन्धों में ऐसे किस्सों की कोई कमी नहीं जो हिन्दुओं की देवी और उनकी दैवीय शक्तियों का उल्लेख न करती हो. लेकिन ऐसे किस्से बहुत कम मिलते हैं, जो देवियों के पतित हो जाने या फिर जाने अनजाने उनसे या उनके साथ हुए पाप का उल्लेख प्रमुखता से किया जाता हो.

किसी भी धर्म पुस्तक में ऐसा कहीं भी लिखा हुआ नहीं मिलता कि कोई देवता ये वर किसी को भी नहीं देते कि पुरुषों को स्त्रियों के ऊपर शासन करना चाहिए. हिन्दुस्तान ही शायद वो इकलौता मुल्क भी है पूरी दुनिया में जहां देव स्थलों पर देवों के साथ साथ देवियों की मुर्तियों को भी शक्तिशाली और आदरपूर्वक स्थान प्रदान है. तब ये सवाल खड़ा होता है कि आखिर ये हिन्दू समाज पितृसत्तात्मक क्यों है? क्यों हिन्दू के व्यवस्थानिर्धारकों ने स्त्रियों को कामिनी के रुप में ही क्यों देखा?क्यों ऐसा कहा कि माया से बचना चाहिए?

पौराणिक विषयों के जानकार और अपने शोध को लेखन के जरिए पाठकों तक पहुंचाने वाले जाने माने विशेषज्ञ देवदत्त पटनायक ने अपनी नई पुस्तक भारत में देवी अनन्त नारीत्व के पांच स्वरुप में ऐसे ही जटिल प्रश्नों को न सिर्फ उठाया. बल्कि हिन्दुओं की मान्यता प्राप्त पुस्तकों के माध्यम से उनके उत्तर भी तलाशने की कोशिश की है. पौराणिक कथाओं और किवदंतियों के शोध से देवदत्त पटनायक को इस नतीजे पर पहुंचने में सफलता मिली है कि इस मुल्क में जितनी भी देवियों की पूजा अर्चना की जाती है, उन सभी की उत्पत्ति पांच प्रमुख स्वरुपों से ही हुई है. देवी का पहला स्वरुप प्रकृति का माना जाता है, जबकि दूसरे स्वरुप में देवी को जननी के रुप में देखा गया, जिसमें ममता है. और यही उसका सबसे बड़ा गुण हैं.

देवी का तीसरा स्वरुप पुरुष को सबसे ज्यादा लुभाता है, शारीरिक भोगविलास से जीवन चक्र में बांधने वाली अप्सराओं के किस्से कैसे किसी धर्मज्ञान, धर्मयुद्ध का आधार बने. जो स्त्री घर परिवार और पति के बंधन में बंधती है तो ये उसका चौथा मगर व्यापक स्वरुप है. जो बहुतायत है. लेकिन पांचवां स्वरुप बहुत खतरनाक समझा गया है. बदला लेने वाली डरावनी, खूंखार असुरी का स्वरुप. पुरुषत्व से भरे साधुओं के शोरगुल से परे हिन्दुओं का साहित्य ऐसी कहानियों से भी भरा पड़ा है, जहां स्त्री और उसकी कामिनी काया उसके आकर्षण स्वरुप स्वप्नों से भरे हुए हैं. और ऐसे प्रसंगों की भी कोई कमी नहीं मिलती जहां स्त्रियों के क्रोध ने पूरी राजसत्ता को ही धराशायी कर दिया.

ऐसी देवियों की कहानियां है जो बच्चों पर कुदृष्टि रखती हैं तो ऐसे भी किस्से हैं जो ध्यानरत ऋषियों को अपनी अदायों से फुसलाने वाली दिव्यकुमारियों का आभास कराते हैं जो जंगलों में स्वतंत्र विचरण करती हैं. और खुद अपनी गति और नियति तय करती हैं. राजपाल एंड संश की तरफ से प्रकाशित ये किताब ब्रह्मचर्य, जनन, फरेब और बलिदान की उन कहानियों को फिर से दोहराती हैं जिन्होंने हिन्दू स्त्रियों को देवी का स्थान दिलाया. और इसी किताब में राजकुमारियों, रानी वीरांगनाओं, नायिकाओं और वेश्याओं की भी अनगिनत कहानियां अपने रोचक संदर्भों के साथ उपस्थित हैं.

हो सकता है कि इस पुस्तक की रचना करते समय कुछ ऐसे सवाल हैं जो लेखक के पुरुष होने पर उठाए जा सकते हों. कि आखिर उन्हें ऐसा कहने की जरूरत क्यों महसूस हुई. लेकिन कुछ सार्थक और आधिकारिक संदर्भों के माध्यम से पुरानी धार्मिक कथाओं के विस्तृत रुप का वर्णन करके लेखक ने उन तमाम सवालों के जवाब भी तलाशे हैं, जिन्हें किताब में स्त्री के प्रति लिखी इबारत को सामने देखने के बाद पाठकों के मन में कौतुहल पैदा कर सकते हैं. ये जरूर है कि ये पुस्तक उन लोगों के ज्ञान चक्षुओं को जरूर खोल देती है जो लिखे हुए को तर्क की कसौटी पर कसने के लिए कभी तैयार नहीं रहते और तब ऐसे शोध के बाद देवी का जो स्वरुप सामने आता है तो धारणा और आस्था दोनों के धरातल डगमगाते हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें