scorecardresearch
 

पुस्तक समीक्षाः एक लड़की पानी पानी, नस्लों को चेताती है पानी की यह कहानी

जितना मुश्किल पानी पर लकीर खींचना है उतना ही मुश्किल पानी विषय पर लिखना है पर लेखक रत्नेश्वर ने जल की उपादेयता को समझ कर 'पानी' जैसे वैश्विक मुद्दे पर संजीदगी से कलम उठाई है.

एक लड़की पानी पानी का कवर एक लड़की पानी पानी का कवर

ब्रह्मांड में पृथ्वी ही एकमात्र ग्रह है जहां जीवन है क्योंकि यहां पानी है, हालांकि हाल में मंगल ग्रह पर पानी होने के संकेत मिले हैं. सभ्यताएं पानी के इर्द-गिर्द ही पनपती है. आजकल जल संरक्षण की चर्चा ज़ोर पकड़ रही है क्योंकि पानी चुकता जा रहा है- आंखों से, जीवन से और नदियों से भी. समय रहते हमने पानी की रक्षा नहीं की तो स्थिति भयावह होगी. इस गंभीर संकट को चर्चित लेखक रत्नेश्वर ने बड़ी शिद्दत से महसूस किया और इससे उपजने वाली अकल्पनीय दुश्वारियों का अपने नवीन उपन्यास 'एक लड़की पानी पानी' में बखूबी चित्र खींचा है.

पानी की बूंद के लिए तरसती मां के स्तन सूख चुके हैं. नदी कुआं पोखर प्यासे पड़े हैं, दर-दर भटकने के बाद दुधमुंही बच्ची की प्यास मिटाने के लिए अंततः मां अपनी उंगली काट देती है और खून से सनी अधकटी उंगली को बच्ची के मुंह में डाल देती है. भारत में पड़े भीषण सूखे के वर्षों को दर्शाती फिल्म 'इंडिया 1869' की स्क्रीनिंग के साथ रत्नेश्वर के उपन्यास की शुरुआत होती है.

अकाल की विभीषिका के दारुण और वीभत्स दृश्यों को देखकर सफ़्स कॉलेज के छात्रों के साथ-साथ पाठक भी सिहर उठते हैं. यह है किताब 'एक लड़की पानी पानी' का पहला पृष्ठ, जहां से शुरू हुआ पानी का संकट उपन्यास के अंतिम पृष्ठ पर जाकर समाप्त होता है.

सफ्स कॉलेज के छात्रावास की रहवासी छात्राओं को नहाने धोने के लिए पन्द्रह लीटर और पीने के लिए पांच लीटर पानी मुकर्रर किया गया है. इसके अतिरिक्त जल प्रतिबंधित है. यदि कोई छात्र उसे पाना चाहे तो राशि का भुगतान कर प्राप्त करना होगा. पानी राशनिंग मशीन, 200 मिलीलीटर पानी के पाउच और पानी गेंद का ज़िक्र भोग की नींद में सोए मानवों के लिए चेतावनी है. आखिर कब बंद करेंगे हम प्राकृतिक संसाधनों का दोहन और अपव्यय. एक जमाना था पग पग पर प्याऊ होते थे, पर वो दिन दूर नहीं जब पानी नल की बजाय ए टी एम मशीनों पर उपलब्ध होगा.

जितना मुश्किल पानी पर लकीर खींचना है उतना ही मुश्किल पानी विषय पर लिखना है पर लेखक रत्नेश्वर ने जल की उपादेयता को समझ कर 'पानी' जैसे वैश्विक मुद्दे पर संजीदगी से कलम उठाई है. इस समस्या से दो-चार होने का उनका प्रयास निस्संदेह अभूतपूर्व है. काला पानी- वीर सावरकर, जल टूटता हुआ- रामदरश मिश्र जैसे चुनिंदा उपन्यास अतीत में लिखे जा चुके हैं, पर गंभीर शोध और कल्पना के ताने-बाने में बुने इस उपन्यास का कथानक किसी त्रिकालदर्शी योगी की साधना सा प्रतीत होता है.

इस उपन्यास के प्रमुख पात्र हैं- पानी पर रिसर्च करने वाले छात्र श्री, अउम, ऋषा और वीर. जो अपने-अपने स्तर पर सूखती पृथ्वी पर जल भंडार तलाशने, वर्षा लाने संबंधी शोध कार्यों में जुटे हैं.

पृथ्वी से हजारों किलोमीटर नीचे समुद्र में मीठे जल के कुएं हैं. अनुमानतः मरियाना ट्रेंच इनका स्रोत है. अविश्वसनीय लगता है खारे समुद्र में मीठे जल के अस्तित्व का अनुमान! पर क्यों न हो, रामायण का प्रसंग इस अनुमान को बल देता है. लंका विजय के बाद समुद्री यात्रा करते राम ने सीता को प्यास लगने पर समुद्र में एक जगह तीर मारा और जलप्रपात फूट पड़ा था.

उपन्यास में दिखाया है कि ध्वनि तरंगों से दूषित जल में मौजूद आर्सेनिक को नष्ट कर उसका शुद्धिकरण किया जा सकता है जैसे मंत्रों के इस्तेमाल या ओम के उच्चारण से मनुष्य खुद को शुद्ध करता हुआ अपने भीतर पहुंच जाता है वैसे ही ध्वनि के जादू से दूषित जल को पेयजल में परिवर्तित किया जा सकता है.

नदान और नदीली प्रोजेक्ट में श्रीस्त्र के माध्यम से वर्षा को लाना लेखक का अनूठा प्रयोग है. वॉटर रिसर्च एंड डेवलपमेंट की पढ़ाई करने वाले छात्र गंभीर शोध में जुटे हैं, पानी सम्मेलन हो रहा है, छात्र हेड मास्क लगाकर ट्रैवल तंत्र के माध्यम से मालवा में उज्जैन की यात्रा कर रहे हैं. पानी रिसर्च की लैबोरेट्री में अभिनव प्रयोग जारी हैं.

लेखक ने निकट भविष्य में होने वाली जल की भीषण समस्या को केंद्र में रखकर एक भविष्यवेत्ता की तरह इसके भयंकर दुष्परिणाम और समाधान बताए हैं. पानी के घुसपैठियों का जिक्र है.

उपन्यास में इस गंभीर समस्या के साथ-साथ एक युवा जोड़े श्री और अउम के दिल में धड़कती भावुक प्रेम कहानी समानांतर चलती है. उनके प्रेम और रूमानियत के बीच हॉस्टल की छात्राओं की परस्पर चुहल साइंस फिक्शन की तकनीकों से लैस कथानक की एकरसता में मोहक व्यवधान उपस्थित करती है. लेखक ने बड़ी चतुराई से गाली-गोली, माहवारी, रतिक्री आदि के उल्लेख द्वारा लड़कियों के छोटे कपड़े पहनने, अनब्याहे मातृत्व आदि मुद्दों पर बेबाकी से नारीवादी दृष्टिकोण पेश किया है.

लेखक के अनुसार न कोई बच्चा अवैध होता है न उसे जन्म देने वाली मां अवैध हो सकती है, जैसे हम प्रकृति से पानी हवा ऊर्जा लेते हैं वैसे ही भ्रूण भी लेते हैं. ऋषा के गर्भवती हो जाने पर श्री नाराज होते हुए वीर को भविष्य में सुरक्षा के लिए कंडोम देती है. लेखक का यहां सुझाव है कि छात्र जीवन में भोग से बचना चाहिए, जीवन एक व्यवस्था से ही खूबसूरत दिखता है उस व्यवस्था को बनाए रखना हम सबकी जिम्मेदारी है.

आधुनिक हॉस्टल में छात्र-छात्राओं के जीवन को प्रस्तुत करते करते गुरु धौम्य और आरुणि की कथा का बखान लेखक के भारतीय संस्कृति से गहरे अनुराग को सिद्ध करता है. वे श्रीकृष्ण को भारतीय संस्कृति का सर्वश्रेष्ठ गुरु मानते हैं.

उपन्यास में उनकी वैज्ञानिक दृष्टि के साथ साथ सांस्कृतिक आध्यात्मिक और दार्शनिक अभिरुचि की स्पष्ट छाप है. जगय परिच्छेद में लेखक ने ब्रह्मांड, धूमकेतु, बर्फ, ओउम, ज्वालामुखी, सागर, नदियां, भागीरथ, जटाधारी शंकर आदि का उल्लेख करते हुए अग्नि में जगत की उत्पत्ति दिखाई है. सृष्टि की निर्मात्री अग्नि का पांच तत्वों में विभक्त होना, जल की चार अवस्थाएं आदि. इस पूरे विवरण के साथ योगन जैसे रहस्यमय पात्र की परिकल्पना विशुद्ध दार्शनिकता का पुट लिए हुए है. उनके पात्रों के नाम भी दर्शनीय हैं - उपदि, ऋषा, श्री, उर्दू, उक्ति, योगन, अउम, अंशा, ओस.

राँची में सम्पन्न अंतरराष्ट्रीय पानी सम्मेलन के व्याज से लेखक ने झारखंडी संस्कृति का बखूबी चित्रण किया है. विकास के गांव में भ्रमण करते हुए श्री के साथ पाठकों को भी चुआ का दर्शन, भोजन , पुटकल की पत्तियों की दाल, हुटार के फूल और पत्तियों की दाल और सब्जी, आदिवासी समाज के रिवाज, पेड़- पौधे, फूल-पत्ते, देवता - मारंग बुरो, सिंग बुगा, स्थानीय पहनावे तोलुंग सिकी आदि का ज्ञान होता है.

रत्नेश्वर एक ओर लद्दाख के सोनम वांगचु और रेन हार्वेस्टिंग के क्षेत्र में विश्व विख्यात 'जल पुरुष' राजेंद्र सिंह का उल्लेख करके आज के भारत की तस्वीर पेश करते हैं, दूसरी ओर भारत की आदि संस्कृति का सूत्र थामे रखते हैं. हमारे पुरखों के दैनंदिन जीवन मे वैज्ञानिकता थी, जिसे हम विस्मृति के गह्वर में धकेलते जा रहे हैं. लेखक ने जल संकट के निदान हेतु अपनी जड़ों को कुरेदने का संकेत दिया है.

सुना है, वैदिक काल में वर्षा के लिए ऋषि मुनि पर्जन्य यज्ञ किया करते थे. उपन्यास में इसी विधि की पुनरावृत्ति दिखती है. मंत्रोच्चार के समवेत स्वर की तरह उपन्यास की नायिका श्री ने भी वर्षा लाने के लिए ध्वनि- विज्ञान का प्रयोग किया है. उसके बनाए यंत्र श्रीस्त्र की योगध्वनि विद्युत में बदलकर बादलों में पहुंचेगी और फिर बादलों को बरसना होगा. उसे अपने मिशन में कामयाबी मिलती है, किंतु इस अनुष्ठान की पूर्णाहुति श्री और अउम के उत्सर्ग के साथ होती है.

कुल मिलाकर 'एक लड़की पानी पानी' स्त्री विमर्श और जल संकट का विरल कम्बीनेशन है जहां समतल मैदान में बहती जलधारा सी एक हॉस्टल की आम कहानी भी है, डॉक्यूमेंट्री फिल्मों की तरह विशुद्ध वैज्ञानिक सूचनापरक घटनाएं भी हैं, जटिल गूढ़ गभीर दार्शनिक प्रसंग भी हैं. बहुधा कथारस का स्वाद लेते लेते स्पीड ब्रेकर की तरह ये अवतरण पाठक के धैर्य की परीक्षा लेते हैं. पर अंततः पाठक को हासिल का अहसास दिलाता है यह अनूठा उपन्यास.

आज पर्यावरण और जल के आसन्न संकट में नितांत उपयोगी है यह किताब. रत्नेश्वर ने प्रत्यक्ष और अनुमान के दोहरे लेंस से भविष्य का आकलन किया है. स्थिति बेहद चिंतनीय जानकर नस्लों को चेताया है कि जल है तो कल है. जनजागरण की दिशा में उनका प्रयास उल्लेखनीय है. यह पुस्तक अपने समय से आगे की है जिसमें जल संकट कथानक का अतीत है, ऐसे भविष्यदर्शी उपन्यास को रचने के लिए लेखक को बधाई.
***

पुस्तक: एक लड़की पानी पानी
लेखकः रत्नेश्वर सिंह
विधाः उपन्यास
भाषाः हिंदी
प्रकाशक: राजपाल एंड संस
मूल्य: 325/- रुपए
पृष्ठ संख्या: 238

#समीक्षक डॉ भावना शेखर, चर्चित कवयित्री, कथाकार हैं. आपकी सत्तावन पंखुड़ियां, सांझ का नीला किवाड़, मौन का महाशंख, जुगनी, खुली छतरी, जीतो सबका मन आदि सहित कविता, कहानी, बालगीत की नौ पुस्तकें प्रकाशित. अनेक कविताओं का जापानी भाषा में अनुवाद किया है. आप मधुबन सम्बोधन पुरस्कार, TERI संस्था द्वारा पुरस्कार, हिंदी साहित्य सम्मेलन, बिहार द्वारा साहित्य-सेवी एवं शताब्दी पुरस्कार, नव अस्तित्व फाउंडेशन, दैनिक जागरण, दैनिक भास्कर द्वारा वीमेंस अचीवर्स अवार्ड से सम्मानित हैं. सम्प्रतिः एएन कॉलेज पटना में अध्यापन.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें