scorecardresearch
 

लंबे कद वाले बच्चों में मोटापे का खतरा ज्यादा, स्टडी का दावा

शोधकर्ताओं का कहना है कि औसतन 4 साल की उम्र के बाद बच्चों का कद तेजी से बढ़ती है. एक्सपर्ट ने इस शोध में पाया कि छोटे कद वाले बच्चों की तुलना में लंबे कद के बच्चों में 'हायर बॉडी मास इंडेक्स' (BMI) बढ़ने की संभावना ज्यादा होती है.

कम उम्र में बच्चों की ज्यादा हाइट उनके लिए बड़ा खतरा बन सकती है. कम उम्र में बच्चों की ज्यादा हाइट उनके लिए बड़ा खतरा बन सकती है.

बच्चों की कम हाइट को लेकर अक्सर पैरेंट्स बड़े दुखी रहते हैं, लेकिन कम उम्र में बच्चों की ज्यादा हाइट उनके लिए बड़ा खतरा बन सकती है. एक नई स्टडी के मुताबिक, लंबे कद वाले बच्चे मोटापे का जल्दी शिकार होते हैं. इस शोध के नतीजे पर पहुंचने के लिए एक्सपर्ट्स ने 2 से 13 साल की उम्र के तकरीबन 28 लाख बच्चों के हेल्थ रिकॉर्ड्स की जांच की है.

शोधकर्ताओं का कहना है कि औसतन 4 साल की उम्र के बाद बच्चों का कद तेजी से बढ़ता है. एक्सपर्ट ने इस शोध में पाया कि छोटे कद वाले बच्चों की तुलना में लंबे कद के बच्चों में 'हायर बॉडी मास इंडेक्स' (BMI) बढ़ने की संभावना ज्यादा होती है. इसी कारण उनमें मोटापे की समस्या बढ़ जाती है.

पढ़ें: बरसात के मौसम में फ्लू से कैसे बचें? आयुष मंत्रालय ने बताए ये घरेलू तरीके

अमेरिकी शोधकर्ताओं ने 2 से 13 साल की आयु के बच्चों की ग्रोथ रेट पर लगातार नजर बनाए रखी और उसे हर साल री-एग्जामीन भी किया. बच्चों के अचानक मोटे होने के कई और भी कारण स्टडी में बताए गए हैं.

एक्सपर्ट्स का कहना है कि बच्चे कई कारणों से मोटापे का शिकार हो सकते हैं. ईटिंग डिसॉर्डर, रहन-सहन, अनुवांशिक या अन्य मेडिकल संबंधी समस्याओं के चलते भी उन्हें यह दिक्कत हो सकती है. बहुत ज्यादा खाना और फिजिकली एक्टिव ना रहने की वजह से बच्चे जल्दी मोटापे का शिकार होते हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें