scorecardresearch
 

'एक्स्ट्रा फैमिली टाइम' की वजह से बच्चों के लिए फायदेमंद लॉकडाउन: स्टडी

1000 पैरेंट्स पर ही इस स्टडी में 33 प्रतिशत से ज्यादा लोगों ने माना कि लॉकडाउन के दौरान उन्हें बच्चों के साथ क्वालिटी टाइम स्पेंड करने का मौका मिला है. इतना ही नहीं, लगभग 78 प्रतिशत पैरेंट्स ये भी मानते हैं कि लॉकडाउन समाप्त होने के बाद भी वे परिवार के साथ क्वालिटी टाइम स्पेंड करना चाहेंगे.

हर पांचवें माता-पिता बच्चों के 'फैमिली टाइम 'की वजह से लॉकडाउन के प्रतिबंधों की सही मानते हैं. हर पांचवें माता-पिता बच्चों के 'फैमिली टाइम 'की वजह से लॉकडाउन के प्रतिबंधों की सही मानते हैं.

लॉकडाउन में कारण लोगों को मजबूरन घरों में कैद रहना पड़ा रहा है. घर में लगातार बंद रहने की वजह से कुछ एक्सपर्ट इसे मेंटल हेल्थ के लिए अच्छा नहीं मानते हैं. लेकिन परिजनों ने यह स्वीकार करना शुरू कर दिया है कि हर चीज की तरह इसके भी कुछ नुकसान हैं तो कुछ फायदे भी हैं. एक नए शोध के मुताबिक, हर पांचवें माता-पिता बच्चों के 'फैमिली टाइम' की वजह से लॉकडाउन के प्रतिबंधों की सही मानते हैं.

1000 पैरेंट्स पर ही इस स्टडी में 33 प्रतिशत से ज्यादा लोगों ने माना कि लॉकडाउन के दौरान उन्हें बच्चों के साथ क्वालिटी टाइम स्पेंड करने का मौका मिला है. इतना ही नहीं, लगभग 78 प्रतिशत पैरेंट्स ये भी मानते हैं कि लॉकडाउन समाप्त होने के बाद भी वे परिवार के साथ क्वालिटी टाइम स्पेंड करना चाहेंगे.

पढ़ें: कोरोना के खिलाफ मजबूत इम्यूनिटी ही सुरक्षा कवच, घर पर मनाएं योग दिवस: पीएम मोदी

कैमकेन द्वारा किए गए इस नए शोध में पता लगा कि परिजनों का बच्चों के साथ टाइम स्पेंड करने का औसत करीब चार गुना तक बढ़ा है. 28 प्रतिशत परिवारों ने यह स्वीकार किया कि उनके नए रूटीन से परिवार में पहले की तुलना में ज्यादा नजदीकियां बढ़ी हैं. जबकि 48 प्रतिशत लोगों ने कहा कि वे भविष्य में भी ऐसे ही अपने परिवार के साथ क्वालिटी टाइम स्पेंड करना चाहेंगे.

लगभग दो-तिहाई पैरेंट्स ने माना कि उनके नए रूटीन से बच्चे काफी खुश हैं. खासतौर पर बच्चों को किचन के काम में हाथ बंटाने या कुकिंग करने में ज्यादा मजा आया. इनमें से 42 प्रतिशत पैरेंट्स बच्चों के बीच रहकर अपनी रोजमर्रा की पुरानी जिंदगी को याद नहीं करते हैं.

37 फीसदी लोग लॉकडाउन के बाद भी एकसाथ डिनर करना जारी रखना चाहते हैं. 30 प्रतिशत लोगों ने बताया कि लॉकडाउन में खाने की टेबल पर बच्चों के साथ जरूरी बातें साझा करना शुरू किया. इस दौरान कुछ पैरेंट्स को बच्चों के बारे में नई चीजें सीखने का अवसर मिला.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें