scorecardresearch
 

रिश्ता बिगड़ने से पहले ही पार्टनर से जुड़ीं इन बातों पर दें ध्यान

रिश्ते में कई बार छोटी-छोटी बातों से कड़वाहट आ जाती है. अगर समय रहते इसे समय रहते दूर नहीं किया गया तो दरार बढ़ती जाती है. अपने रिश्तों की समस्याओं को दूर करने की कोशिश करें.

रिश्तों की समस्याओं को करें दूर रिश्तों की समस्याओं को करें दूर

किसी भी रिश्ते की मजबूती इस बात पर निर्भर करती है कि आप अपने साथी को कितना समझते हैं और आने वाली दिक्कतों को किस तरह संभालते हैं. किसी भी रिश्ते में थोड़ी-बहुत समस्या तो आम है लेकिन कई बार चीजों को नजरअंदाज करते जाने से यही छोटी-छोटी बातें बड़ी बन जाती हैं. अगर आपको भी लगता है कि आपके रिश्ते में वो पहले वाली बात नहीं रह गई है तो इन समस्याओं को पहचान कर उन्हें दूर करने की कोशिश करें.

कम्पैटिबिलिटी की कमी

हर किसी की अपनी अलग खासियत होती है. रिश्ते को चलाने के लिए कम्पैटिबिलिटी यानी अनुकूलता बहुत जरूरी है. अलग-अलग व्यवहार वाले ज्यादातर कपल्स एक-दूसरे के साथ तालमेल बिठाने में दिक्कत महसूस करते हैं. जैसे कि हो सकता है कि आपके पार्टनर को हर कुछ दिनों पर पार्टी करना पसंद हो लेकिन आप घर पर रहकर आराम करना चाहते हों. एक दूसरे में कुछ भी कॉमन ना होना रिश्ते के लिए बड़ी समस्या है. जरूरी है कि आप दोनों एक-दूसरे के पसंद- नापसंद को समझने की कोशिश करें और लड़ने की बजाय बैठकर बात करें कि इसका हल कैसे निकाला जा सकता है.

अंतरंग संबंधों में कमी

इंटीमेसी यानी अंतरंग संबंधों में कमी भी रिश्ते में दरार का कारण बनने लगती है. अगर आप अपने पार्टनर के साथ बोरियत महसूस करते हैं और यौन संबंधों से दूरी बनाने लगे हैं तो आप दोनों को खुलकर इस मुद्दे पर बात करनी चाहिए. एक-दूसरे की देखभाल और प्यार से अंतरंग संबंधों को मजबूत किया जा सकता है.

ये भी पढ़ें: धोखेबाज पार्टनर को दूसरा मौका देने में यकीन रखते हैं ज्यादातर लोग

अलग-अलग प्राथमिकताएं

रिश्ते में प्राथमिकताएं बताती हैं कि आप एक-दूसरे से कितना प्यार करते हैं और आपको एक-दूसरे की कितनी परवाह है. जिन कपल्स के रिश्ते मजबूत होते हैं वो अपनी प्राथमिकताओं के अलावा अपने पार्टनर की भी इच्छाओं का ख्याल रखते हैं. अगर आपका रिश्ता हाल ही में शुरू हुआ है और आपको लगता है कि आप दोनों की प्राथमिकताएं अलग- अलग हैं तो थोड़े बहुत समझौते करने की आदत डालें. अगर संभव नहीं हो पा रहा है तो रिश्ता खराब होने से पहले ही पार्टनर से खुल कर बात करें.

भरोसे और ईमानदारी की कमी

वफादारी और विश्वास एक रिश्ते की मजबूत नींव हैं. यही वो चीज है जो रिश्ते को मजबूती से बांधे रखती है. अगर आप किसी को डेट कर रहे हैं और आपको लगता है कि आपका पार्टनर आप पर हमेशा शक करता है तो रिश्ते को आगे बढ़ाने से पहले एक बार फिर सोच लें. अगर आप किसी रिश्ते में बंध चुके हैं तो अपने प्यार से अपने पार्टनर का भरोसा जीतने की कोशिश करें.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें