scorecardresearch
 
लाइफस्टाइल

अंबानी खानदान की बहू बनने जा रही हैं श्‍लोका, जानें अनसुनी बातें

अंबानी खानदान की बहू बनने जा रही हैं श्‍लोका, जानें अनसुनी बातें
  • 1/7
देश के सबसे अमीर खानदान अंबानी परिवार में आज खुशियों का माहौल है. आज मुकेश अंबानी के बड़े बेटे आकाश अंबानी की शादी हीरा व्यापारी अरुण रसेल मेहता की बेटी श्लोका मेहता के साथ होने जा रही है. इस ग्रैंड शादी में शामिल होने के लिए दुनियाभर से मेहमान पहुंच रहे हैं. बता दें, यह शादी मुंबई स्थित जियो वर्ल्ड सेंटर में होने वाली है. ऐसे में आइए आपको श्लोका मेहता के बारे में बताते हैं ऐसी कुछ खास बातें जिनके बारे में बहुत कम ही लोग जानते हैं.  
अंबानी खानदान की बहू बनने जा रही हैं श्‍लोका, जानें अनसुनी बातें
  • 2/7
आकाश अंबानी की होने वाली पत्नी श्लोका मेहता के पिता जानेमाने हीरा कारोबारी रसेल मेहता है. श्लोका अपनी तीन बहनों में सबसे छोटी है.
अंबानी खानदान की बहू बनने जा रही हैं श्‍लोका, जानें अनसुनी बातें
  • 3/7
श्लोका मेहता के दादा जी और रसेल के पिता अरुणकुमार एम. रमणिकलाल ने 1960 में मुंबई में बी. अरुणकुमार एंड कंपनी की स्थापना की थी. अरुणकुमार ने रोजी ब्लू ने के नाम से अपना कारोबार शुरू किया. जो आज दुनिया के 12 देशों में उपस्थिति है.
अंबानी खानदान की बहू बनने जा रही हैं श्‍लोका, जानें अनसुनी बातें
  • 4/7
साल 2009 में धीरूभाई अंबानी इंटरनेशनल स्कूल से अपनी पढ़ाई खत्म करने के बाद श्लोका ने अमरीका के प्रिंस्टन युनिवर्सिटी से एंथ्रोपोलॉजी की पढ़ाई पूरी की है.इसके बाद उन्होंने लंदन स्कूल ऑफ़ इकोनॉमिक्स से लॉ में मास्टर्स किया.
अंबानी खानदान की बहू बनने जा रही हैं श्‍लोका, जानें अनसुनी बातें
  • 5/7
श्लोका मेहता साल 2014 में रोजी ब्लू डायमंड्स की डायरेक्टर बनी. श्‍लोका की मां मोना मेहता नीरव मोदी की रिश्तेदार हैं. दरअसल मोना मेहता के भाई यानी श्‍लोका के मामा मयंक मेहता की शादी नीरव मोदी की बहन पूर्वी से हुई है.
अंबानी खानदान की बहू बनने जा रही हैं श्‍लोका, जानें अनसुनी बातें
  • 6/7
श्लोका को किताबें पढ़ने का बेहद शौक है. इतना ही नहीं उनकी समाजसेवा में भी गहरी रुचि है. वो 2015 में स्थापित कनेक्ट फॉर की सह-संस्थापक भी हैं जो गैर सरकारी संगठनों (एनजीओ) के लिए स्वयंसेवक तलाशती है.
अंबानी खानदान की बहू बनने जा रही हैं श्‍लोका, जानें अनसुनी बातें
  • 7/7
श्‍लोका को समाजसेवा की प्रेरणा अपने दादा जी अरुण कुमार मेहता से मिली. परोपकार के कामों के अलावा श्‍लोका को ब्‍लॉंगिंग का भी शौक है. इसके अलावा पढ़ना और घूमने से भी उन्‍हें खास लगाव है.