scorecardresearch
 

Night Sweating: रात में सोते समय आता है पसीना? इन खतरनाक बीमारियों का है संकेत

Night Sweats: गर्मी के मौसम में पसीना आना काफी कॉमन है. लेकिन कुछ लोगों को हर मौसम में रात में सोते समय पसीना आने की समस्या होती है. सोते समय पसीना आने का क्या कारण होता है, इस बारे में आर्टिकल में जानेंगे.

X
(Image credit: Getty images) (Image credit: Getty images)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • पसीना आना आम बात है
  • कुछ लोगों को काफी अधिक पसीना आता है
  • रात में सोते समय पसीना आना गंभीर बीमारियों का संकेत हो सकता है

तेज धूप और उमस के कारण देश के कई राज्यों में भारी गर्मी पड़ रही है. कई जगहों पर कूलर और एसी में भी गर्माहट का अहसास हो रहा है. दिन में बाहर निकलने पर लोग पसीने में तर हो जाते हैं. लेकिन कई लोगों को रात में भी पसीना आता है. सिर्फ गर्मी के मौसम में ही नहीं, कुछ लोग हर मौसम में रात के समय अधिक पसीना आने से परेशान रहते हैं. नेशनल हेल्थ सर्विस का कहना है कि जिन लोगों को रात में अधिक पसीना आता है, उनमें से अधिकतर लोगों को इलाज की जरूरत नहीं होती. प्राकृतिक हवा में सोना, कॉटन के कपड़े पहनना और ठंडा पानी आदि तरीकों से पसीने से छुटकारा मिल सकता है. किन कारणों से रात में पसीना आता है, ये जानना जरूरी है.

1. मैनोपॉज या रजोनिवृत्ति (Menopause)

NHS के मुताबिक, अगर महिलाओं को रात में पसीना आता है तो वह मेनोपॉज का संकेत हो सकता है. इस दौरान हार्मोंस में बदलाव के कारण अधिक उम्र की महिलाओं को रात में अधिक पसीना आ सकता है. अगर महिलाओ की उम्र 45-55 साल के बीच है तो यह भी अधिक पसीने का कारण हो सकता है.

2. दवा (Medication)

जो लोग अधिक मेडिसिन लेते हैं, उन लोगों को भी रात में सोते समय पसीना आ सकता है. NHS के मुताबिक, पसीना आना दवाओं के साइड इफेक्ट में भी आता है. एंटीडिप्रेसेंट, स्टेरॉयड और दर्दनिवारक दवाइयां रात में पसीना आने का कारण बन सकती हैं.

3. लो ब्लड शुगर लेवल (Low blood sugar)

लो ब्लड शुगर लेवल को हाइपोग्लाइसीमिया के रूप में भी जाना जाता है. जब किसी के शरीर में ब्लड शुगर काफी कम होने लगता है, तब यह स्थिति आती है. इस स्थिति को आमतौर पर डायबिटीज से जोड़कर देखा जाता है. जिसका ब्लड शुगर लेवल कम होता है, उसे भी रात में पसीना आता है.

डॉ. नेसोची ओकेके-इगबोके (Dr Nesochi Okeke-Igbokwe) के मुताबिक, जब ब्लड शुगर लेवल बहुत कम हो जाता है तो यह एड्रेनालाईन हार्मोन रिलीज करने लगता है और जब एड्रेनालाईन हार्मोन रिलीज होता है तो पसीने की ग्रंथियां एक्टिव हो जाती हैं जिससे पसीना आने लगता है.

4. इंफेक्शन (Infections)

रात में पसीना आना किसी संक्रमण या इंफेक्शन का भी संकेत हो सकता है. जब आप किसी संक्रमण की चपेट में आते हैं तो इम्यूनिटी उस वायरस से लड़ती है और आपको उससे बचाती है. बस उस समय अधिक पसीना आने लगता है. 

5. अल्कोहल (Alcohol)

यदि आप सोने से पहले एक या दो ड्रिंक पीते हैं तो यह रात में पसीना आने का कारण हो सकता है. ऐसा इसलिए होता है क्योंकि शराब शरीर में मौजूद हवा पास होने वाले रोमछिद्र को बंद कर देती है. ऐसे में शरीर हवा पास करने के लिए अधिक मेहनत करता है, जिसके कारण पसीना आने लगता है. इसके साथ ही शरीब हार्ट रेट को बढ़ा देती है, जिससे पसीना आता है. 

6. कुछ प्रकार के कैंसर

रात में पसीना आना कुछ कैंसर का एक बहुत ही प्रारंभिक संकेत हो सकता है. यह सबसे अधिक लिम्फोमा (ब्लड कैंसर) में नजर आता है.

7. एंग्जाइटी (Anxiety)

एंग्जाइटी भी अत्यधिक पसीने का एक सामान्य कारण हो सकता है. जब कोई किसी चिंता में होता है तो उसका दिमाग स्थिर नहीं रहता और इधर-उधर घूमता रहता है. ऐसे में हार्ट रेट तेज हो जाती है और पसीना आने लगता है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें