scorecardresearch
 
लाइफस्टाइल न्यूज़

Gastrointestinal Disorders: पेट से जुड़ीं इन दिक्कतों को कभी ना करें नजरअंदाज, गंभीर बीमारी का भी संकेत

इन लक्षणों पर दें ध्यान
  • 1/11

सेहत से जुड़ी छोटी-छोटी परेशानियों को हम अक्सर नजरअंदाज कर देते हैं. आमतौर पर लोग पेट दर्द, ऐंठन, सूजन, बार-बार पेशाब लगना और डायरिया जैसे लक्षणों पर ध्यान नहीं देते हैं. छोटी लगने वाली ये परेशानियां किसी बड़ी और गंभीर बीमारी का लक्षण भी हो सकती हैं. आइए जानते हैं कि पेट से जुड़ी किन बातों को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए.

पेट में ऐंठन
  • 2/11

पेट में ऐंठन- खाना खाने के तुरंत बाद पेट में ऐंठन होना क्रोहन रोग (Crohn's disease) का एक आम लक्षण है. ये पाचन तंत्र में जलन की वजह से होता है. बीमारी के सक्रिय होने पर पेट में ऐंठन बढ़ जाती है. इसकी वजह से आपको दस्त, जोड़ों का दर्द और वजन कम होने जैसी दिक्कत भी हो सकती है.

शौच में खून आना
  • 3/11

शौच में खून आना- अगर आपके शौच में खून आता है तो इसे बिल्कुल भी नजरअंदाज ना करें और डॉक्टर से इसके बारे में बताएं. बवासीर होने पर भी शौच से खून आ सकता है. इसके अलावा, ये कोलन कैंसर, कोलोन पॉलीप्स, कोलाइटिस और डायवर्टीकुलोसिस के भी संकेत हो सकते हैं.
 

लगातार दस्त
  • 4/11

लगातार दस्त- अगर आपको दस्त आ रहे हैं और ये कई दिनों के बाद भी नहीं बंद हो रहे हैं तो इसकी वजह पेट में इंफेक्शन हो सकता है. इसकी वजह से आपको इरिटेबल बॉएल सिंड्रोम (IBS) भी हो सकता है. ये इंफेक्शन, थायराइड डिसऑर्डर या किसी फूड एलर्जी की वजह से भी हो सकता है.

पेट में सूजन-
  • 5/11

पेट में सूजन- कुछ खाने या पीने के बाद अगर आपके पेट में सूजन हो जाती है तो इसे नजरअंदाज बिल्कुल ना करें. पेट के अंदर की कोशिकाओं के बढ़ जाने, इंफेक्शन या हर्निया जैसी स्थितियों में भोजन और तरल पदार्थ आपकी आंतों के माध्यम से शरीर में नहीं पहुंचते हैं. इसकी वजह से पेट में सूजन, और गैस पास करने में परेशानी हो सकती है. अगर आपको इनमें से कोई भी लक्षण है तो डॉक्टर से संपर्क करें.
 

खून की उल्टी
  • 6/11

खून की उल्टी- अगर आपकी उल्टी में खून आता है तो सावधान हो जाएं. इसका मतलब हो सकता है कि आपको अल्सर हो. इसमें पेट या ऊपरी आंत में एक घाव हो जाता है जिसकी वजह से उल्टी में खून आता है. ऐसी स्थिति में आपको सीने में जलन, या दर्द महसूस हो सकता है. आमतौर पर ये लक्षण दवा लेने के बाद ठीक हो जाते हैं लेकिन आपको डॉक्टर से जरूर संपर्क करना चाहिए.

नाभि में दर्द-
  • 7/11

नाभि में दर्द- अगर आपकी नाभि में दर्द रहता है तो ये यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन (UTI) का संकेत हो सकता है. ये दिक्कत बच्चों को अक्सर होती है. इसमें पेट में दर्द और दबाव जैसा महसूस होता है. इसके अलावा बुखार या पेशाब करते समय जलन भी महसूस हो सकती है. ये एपेंडिक्स की शुरूआत भी हो सकती है.
 

पेट के ऊपरी हिस्से में दर्द-
  • 8/11

पेट के ऊपरी हिस्से में दर्द- पेट के ऊपरी हिस्से में अचानक और तेज दर्द गॉलब्लेडर अटैक का लक्षण हो सकता है. ये तब होता है, जब पित्त की पथरी (Gallbladder stone) की वजह से आपकी पित्त नलिकाओं में रुकावट आने लगती है. इसकी वजह से आपको कंधों में दर्द, मितली या उल्टी भी महसूस हो सकती है.

पेट के निचले हिस्से में दर्द
  • 9/11

पेट के निचले हिस्से में दर्द- पेट के निचले हिस्से में दाहिनी तरफ अचानक तेज दर्द होना एपेंडिसाइटिस का प्रमुख लक्षण है. ये दर्द अक्सर नाभि के पास से शुरू होता है और पेट में दाईं तरफ बढ़ने लगता है. इसका दर्द असहनीय होता है.
 

तेज भूख लगने पर पेट में दर्द
  • 10/11

तेज भूख लगने पर पेट में दर्द- पेट का अल्सर एक खुले घाव की तरह होता है. तेज भूख लगने पर इस अल्सर की वजह से आपके पेट में जलन और दर्द हो सकता है. यह दर्द आमतौर पर तब महसूस होता है, जब आपको भूख लगती है. ये दर्द आप पीठ और गर्दन में भी महसूस कर सकते हैं.

पेट भरा लगना
  • 11/11

पेट भरा लगना- कम खाना खाने के बाद भी अगर आपको पेट हमेशा भरा हुआ लगता है तो ये सामान्य नहीं है. ये अल्सर और गैस्ट्रोएसोफेगल रिफ्लक्स रोग  (Gastroesophageal reflux disease) की वजह से भी हो सकता है. अगर आपको 10 साल से भी ज्यादा समय से डायबिटीज है तो आपको गैस्ट्रोपरेसिस की समस्या हो सकती है. इसकी वजह से आपका पेट उतनी जल्दी खाली नहीं होता है जितनी जल्दी होना चाहिए. गंभीर स्थिति में ये पेट या ओवेरियन कैंसर का भी संकेत हो सकता है.