scorecardresearch
 

लॉकडाउन में कैसे रखें मेंटल हेल्थ का ख्याल? काम आएंगे ये एक्सपर्ट टिप्स

डॉ. समीर पारीख ने लोगों के साथ मेंटली फिट रहने के भी टिप्स साझा किए हैं. उन्होंने बताया कि इंसान की मेंटल हेल्थ दो चीजों पर निर्भर करती है. पहला, इंसान का सपोर्ट सिस्टम और दूसरा, जिंदगी को जीने का बुनियादी तरीका.

स्ट्रेस और डिप्रेशन की समस्या पूरे विश्व में सबसे ज्यादा चिंता का विषय है: डॉ. समीर पारीख स्ट्रेस और डिप्रेशन की समस्या पूरे विश्व में सबसे ज्यादा चिंता का विषय है: डॉ. समीर पारीख

  • इंसान की एक-दूसरे से कनेक्टिविटी उसकी मेंटल हेल्थ के लिए काफी जरूरी है.
  • अपने जीवन में खुशियों को जगह दीजिए. रचनात्मकता लाइए. हर पल को अच्छे से जिएं.

पूरी दुनिया में तबाही मचाने वाले कोरोना वायरस के कारण लोगों को मजबूरन घरों में कैद रहना पड़ रहा है. घर में कैद रहने की वजह से लोगों की मेंटल हेल्थ पर भी इसका बुरा असर पड़ने लगा है. 'इंडिया टुडे माइंड रॉक्स' के माध्यम से फोर्टिस हेल्थकेयर के जाने-माने डॉक्टर समीर पारीख ने लोगों को इस समस्या से निपटने का समाधान बताया है.

डॉ. समीर पारीख ने बताया कि स्ट्रेस और डिप्रेशन की समस्या पूरे विश्व में सबसे ज्यादा चिंता का विषय है. उन्होंने कहा कि कुछ लोग इस भ्रांति के शिकार हैं कि भारत में 'मेंटल हेल्थ' का इलाज काफी महंगा है, जबकि वास्तव में ऐसा नहीं है. मेंटल हेल्थ की दवाएं और टेस्टिंग भारत में भी सस्ती कीमतों पर मिल रही हैं. यहां तक कि सरकार की तरफ से भी अस्पतालों में खास इंतजाम किए गए हैं.

कैसे रहें मेंटली फिट?

डॉ. पारीख ने लोगों के साथ मेंटली फिट रहने के भी टिप्स साझा किए. उन्होंने बताया कि इंसान की मेंटल हेल्थ दो चीजों पर निर्भर करती है. पहला, इंसान का सपोर्ट सिस्टम और दूसरा जिंदगी को जीने का बुनियादी तरीका. अपने जीवन में खुशियों को जगह दीजिए. रचनात्मकता लाइए. हर पर को अच्छे से जिएं. सफलताओं और असफलताओं को एंजॉय करना सीखें.

पढ़ें: वर्क फ्रॉम होम करने वाले हो जाएं सावधान, जानें क्या है 'कंप्यूटर विजन सिंड्रोम'?

इसके अलावा सबसे ज्यादा जरूरी है कि इंसान को हमेशा एक सपोर्ट सिस्टम की जरूरत होती है. इसलिए इस मुश्किल घड़ी में अपनों के साथ जुड़े रहना बहुत जरूरी हो गया है. इंसान की एक-दूसरे से कनेक्टिविटी उसकी मेंटल हेल्थ के लिए काफी जरूरी है. जब भी इंसान किसी मुश्किल में होता है तो यही सपोर्ट सिस्टम उसे डिप्रेशन या स्ट्रेस में जाने से रोक सकता है.

डॉ. पारीख ने बताया कि इंसान का 'प्रॉब्लम सॉल्विंग एटीट्यूड' होना बहुत जरूरी है. कोरोना काल में सकारात्मक सोच के साथ आगे बढ़ना काफी जरूरी है. हेल्दी लाइफस्टाइल को फॉलो करें. अच्छा खाएं और अच्छा सोचें. साथ ही अपने स्लीपिंग पैटर्न पर भी ध्यान दें. एक्सपर्ट्स मानते हैं कि रोजाना 7-8 घंटे की नींद लेने से आप मानसिक तनाव से दूर रह सकते हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें