scorecardresearch
 

गोरक्षा के नाम पर गुंडागर्दी के लाइसेंसधारी

भीड़तंत्र के खिलाफ सख्ती का कोई मंत्र जैसे काम नहीं कर रहा है. बिहार के हाजीपुर में गोतस्करी के शक में भीड़ ने दो लोगों पर जमकर ताकत का प्रदर्शन किया. पहले तो गाडी जब्त की और फिर धर्म पूछकर लात घूंसो थप्पड़ से मरम्मत की. बजरंग दल के कार्यकर्ताओं के हंगामे के बीच पुलिस भी पहुंची लेकिन पकड़े गए लोगों को बचाने के बजाय उन्हें डांटने फटकारने लगी. सवाल ये है कि गो रक्षा के नाम पर गुंडागर्दी का लाइसेंस इन्हें किसने दे दिया. लोग पकडे़ गए तो सजा कानून देगा या हिंसक भीड़. सुप्रीम कोर्ट से लेकर सरकार तक ने गोरक्षा के नाम पर हिंसा और भीड़तंत्र पर सख्ती का निर्देश दिया है लेकिन सरकार या पुलिस कोई इन्हें रोक नहीं पा रही हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें