scorecardresearch
 

दो रोटी की बड़ी मजबूरी

देश के तीन अलग अलग हिस्सों की ऐसी कहानियां जिसमें चेहरे भले ही अलग अलग हैं लेकिन मजबूरी एक है, दो रोटी की मजबूरी. ये कहानियां सच्ची हैं, इनमें दिखती है भूख, इनमें दिखती है पेट की आग बुझाने की लाचारी. जिसमें इंसान की कोई वक्‍त नहीं, जिंदगी का कोई मोल नहीं. जहां आकर पढ़ा लिखा और अनपढ़ हर इंसान बराबर हो जाता है. सबसे पहली कहानी मुरादाबाद की जहां मजबूरी में इंसान बन गया बैल.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें