scorecardresearch
 

पिथौरागढ़ में बादल फटने से कई घर जमींदोज, मरने वालों की संख्या हुई 6

भारी बारिश के बाद पिथौरागढ़ के मुनस्यारी के टागा गांव और बंगापानी के गेला गांव में बादल फटने से तबाही मच गई. देखते ही देखते कई घर जमींदोज हो गए.

पिथौरागढ़ में बादल फटने से कई घर मलबे में तब्दील (फोटो-ANI) पिथौरागढ़ में बादल फटने से कई घर मलबे में तब्दील (फोटो-ANI)

  • टागा गांव और गेला गांव में फटा था बादल
  • जिले के कई घर हो गए थे मलबे में तब्दील

उत्तराखंड के पिथौरागढ़ में बादल फटने की वजह से कई घर मलबे में तब्दील हो गए. जिले में पहाड़ से अचानक आए मलबे में कई घर दब गए. इस घटना में मरने वालों की संख्या बढ़कर 6 हो चुकी है. राहत और बचाव कार्य अब भी जारी है. इससे पहले 9 लोग लापता बताए जा रहे थे.

असल में, रविवार रात को हुई भारी बारिश के बाद पिथौरागढ़ के मुनस्यारी के टागा गांव और बंगापानी के गेला गांव में बादल फटने से तबाही मच गई. देखते ही देखते कई घर जमींदोज हो गए. गेला गांव में 6 लोगों की घर के मलबे में दबने से मौत हो गई. कई अन्य घायल बताए जा रहे हैं.

उत्तराखंडः चमोली में बादल फटने के बाद खौफ में जी रहे घाट के निवासी

बताया जा रहा है कि टागा गांव में शवों की तलाश लगातार जारी है. एसडीआरएफ, बीआरओ के साथ ही स्थानीय लोग राहत और बचाव कार्य में लगे हुए हैं. गांव तक पहुंचने के सभी रास्ते पूरी तरह बंद हैं. राहत पहुंचाने वाली टीम ट्रॉली और रस्सियों के सहारे बड़ी मुश्किल से प्रभावित गांव तक पहुंच पा रही है.

क्यों फट जाते हैं बादल, क्या होता है जब आती आसमान से है ये भयावह आपदा

बता दें कि मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने पिथौरागढ़ के जिला अधिकारी को निर्देश दिया था कि राहत और बचाव कार्य में किसी तरह की कोताही न बरती जाए. प्रभावित क्षेत्र में फौरन एसडीआरएफ की एक टीम और भेजी जाए. इस घटना की चपेट में जो लोग आए हैं उन्हें तत्काल अनुमन्य राहत राशि उपलब्ध कराई जाए. साथ ही जरूरी सुविधाएं भी मुहैया कराने के निर्देश दिए गए हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें