scorecardresearch
 

पीलीभीत में पराली जलाते पकड़े गए 20 किसान गिरफ्तार

अधिकारी गांव-गांव जाकर पराली न जलाने की अपील कर रहे हैं. इसके बावजूद पराली जलाने की घटनाओं में कमी नहीं आई है. गिरफ्तार किसान पराली जलाते हुए पकड़े गए लेकिन आरोपी किसानों ने इससे इनकार किया है.   

पराली जलने की वजह से लोगों को सांस लेने में दिक्कतें आ रही हैं (फाइल फोटो-ANI) पराली जलने की वजह से लोगों को सांस लेने में दिक्कतें आ रही हैं (फाइल फोटो-ANI)

  • अब तक 500 किसानों के खिलाफ हो चुकी है एफआईआर
  • किसान अपनी मांग को लेकर दिल्ली में प्रदर्शन करने वाले हैं

उत्तर प्रदेश के पीलीभीत में पराली जलाने को लेकर पुलिस ने 20 किसानों को गिरफ्तार किया है. वहीं, अब तक 500 किसानों के खिलाफ एफआईआफ दर्ज की गई है. अधिकारी गांव-गांव जाकर पराली न जलाने की अपील कर रहे हैं. इसके बावजूद पराली जलाने की घटनाओं में कमी नहीं आई है. गिरफ्तार किसान पराली जलाते हुए पकड़े गए लेकिन उन्होंने इससे इनकार किया है.

पीलीभीत में पराली जलाने के को लेकर अब तक लगभग 500 किसानों पर एफआईआर हो चुकी है. इसके बाबजूद पराली लगातार जल रही है. इसे देखते हुए प्रशासन ने लेखपालों को निलंबित कर दिया, फिर भी पराली जलती रही. उसके बाद पुलिस पर भी कार्रवाई की गई लेकिन इसमें कोई सुधार नहीं दिखा. प्रशासन ने सख्ती बरतते हुए बुधवार को थाना पूरनपुर से 15 और थाना माधोटांडा से 5 किसानों को जेल भेज दिया. ये लोग मौके पर पराली जलाते हुए या पराली जला कर खेत जोतते हुए पकड़े गए.

दूसरी ओर किसान पराली को लेकर धरना कर चुके हैं लेकिन बात न बनने पर अब दिल्ली जाने की बात कह रहे हैं. इसी मामले में 8 लेखपालों को निलंबित कर दिया गया, जिसके चलते सभी लेखपाल धरने पर बैठ गए हैं. लेखपालों ने पूरे जिले में बाइक से रैली निकाल कर गिरफ्तारी पर विरोध जताया. उनका कहना का 100 रुपये के भत्ते में बाइक से नौकरी नहीं की जा सकती, वहीं पराली जलाने से रोकने के लिए उनके पास पुलिस नहीं होती है. लेखपालों को निलंबित करने के बाद अब पुलिस महकमे पर भी गाज गिरने लगी है. थाना पूरनपुर के दरोगा को लापरवाही बरतने को लेकर लाइन हाजिर कर दिया गया है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें