scorecardresearch
 

लॉकडाउन के दौरान राम मंदिर निर्माण के लिए मिला 4.60 करोड़ रुपये का दान

राम मंदिर निर्माण के लिए केवल लॉकडाउन के दौरान ही 4 करोड़ 60 लाख रुपये का दान मिला है. यह पैसा अलग-अलग दानदाताओं ने राम मंदिर निर्माण के लिए खोले गए श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के खाते में जमा कराए हैं.

प्रतीकात्मक तस्वीर प्रतीकात्मक तस्वीर

  • श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के खाते में लगातार आ रहा दान
  • भव्य और दिव्य मंदिर का निर्माण चाहते हैं भक्तः सत्येंद्र दास

कोरोना वायरस की महमारी से निपटने के लिए लागू लॉकडाउन के दौरान प्रदेश, जिला और ब्लॉक स्तर पर सीमाएं सील कर दी गई थीं. सभी मंदिर और धार्मिक स्थल अब भी बंद हैं. लेकिन इस लॉकडाउन के दौरान भी राम मंदिर निर्माण के लिए बने ट्रस्ट पर खूब रुपया बरसा. राम मंदिर निर्माण के लिए केवल लॉकडाउन के दौरान ही 4 करोड़ 60 लाख रुपये का दान मिला है.

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

यह पैसा अलग-अलग दानदाताओं ने राम मंदिर निर्माण के लिए खोले गए श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के खाते में जमा कराए हैं. राम मंदिर के मुख्य पुजारी आचार्य सत्येंद्र दास ने इस संबंध में कहा कि पैसे की कमी के चलते राम मंदिर निर्माण में कोई बाधा उत्पन्न न हो और भव्य, दिव्य, गगनचुंबी राम मंदिर का निर्माण हो, भक्तों की यही कामना है. इसीलिए भक्त लगातार दान दे रहे हैं.

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें...

उन्होंने कहा कि भगवान राम को 27 साल तक तिरपाल में में रहना पड़ा. आज भी वे लकड़ी के अस्थाई मंदिर में विराजमान हैं, जो तिरपाल की अपेक्षा ठीक है. सत्येंद्र दास ने कहा कि अब काफी कुछ व्यवस्थित हो गया है, लेकिन रामलला के लिए भव्य और दिव्य मंदिर का निर्माण हो, अब संतों की यही मांग है. सरकार भी कह चुकी है कि भव्य मंदिर बने.

देश-दुनिया के किस हिस्से में कितना है कोरोना का कहर? यहां क्लिक कर देखें

राम मंदिर के पुजारी ने कहा कि न्यास के खाते दान की रकम लगातार आ रही है. गौरतलब है कि राम मंदिर को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में सरकार से मंदिर निर्माण के लिए ट्रस्ट बनाने को कहा था. कोर्ट के निर्देश पर सरकार ने श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट का गठन किया था. यह ट्रस्ट मंदिर निर्माण का दायित्व संभाल रहा है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें