scorecardresearch
 

यूपीः LDA में हुई घोटले को लेकर डिप्टी CM ने सूची भेजी, महकमे में हड़कंप

उपमुख्यमंत्री केशव मौर्य ने अपनी शिकायत में पुरानी योजनाओं की गायब फाइलों और लखनऊ के प्राइवेट बिल्डर्स को फायदा पहुंचाने के मामले में भी शिकायत की है.

उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य

  • प्राइवेट बिल्डर्स को फायदा पहुंचाने की है शिकायत
  • इस मामले में एक चिट्ठी 31 अगस्त को भेजी गई थी

उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने सीएम योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर लखनऊ विकास प्राधिकरण (एलडीए) में हुए घोटाले के बारे में एक सूची भेजी है. सूची भेजे जाने के बाद से महकमे में हड़कंप मचा हुआ है. इस शिकायती पत्र में कमर्शियल प्लॉटों के आवंटन से लेकर तमाम दूसरी प्रॉपर्टीज को बेचे जाने, निर्माण में घपले और दूसरे फर्जीवाड़े के बारे में शिकायत की गई है.

सीएम से की कार्रवाई की मांग

उपमुख्यमंत्री केशव मौर्य ने अपनी शिकायत में पुरानी योजनाओं की गायब फाइलों और लखनऊ के प्राइवेट बिल्डर्स को फायदा पहुंचाने के मामले में भी शिकायत की है. उन्होंने अपने पत्र में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से इस मामले में कार्रवाई की मांग की है. इस मामले में एक चिट्ठी 31 अगस्त को भेजी गई थी, जिसमें प्रमुख सचिव ने 7 नवंबर को पत्र भेजकर रिपोर्ट बनाने को कहा था. इसके बाद से एलडीए उपाध्यक्ष से रिपोर्ट मंगा ली गई थी. विभाग ने घोटाले में शामिल सभी अधिकारियों से जवाब तलब भी किया है.

सीएम के अधीन आता है एलडीए विभाग

एलडीए विभाग मुख्यमंत्री के अधीन आता है और इस विभाग में काफी समय से घोटाले की खबरें आ रही थीं. इस बाबत मुख्यमंत्री का ध्यान दिलाने के लिए उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने शिकायत की थी. बेहद गंभीर शिकायत में कई तरह के आरोप लगाए गए हैं, जिसमें कमर्शियल प्लॉटो के समायोजन, नीलामी और नियम विरूद्ध कार्यों की तरफ ध्यान दिलाते हुए कहा गया है कि आखिरकार विभाग के अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई क्यों नहीं हुई?

पत्र के जरिए कई सवाल उठाए गए

केशव मौर्य ने अपने चिट्ठी में कई तरह के सवाल उठाए हैं, जिसमें डिफॉल्टर बिल्डर्स के प्लॉट आवंटन को रद्द नहीं किए जाने पर सवाल उठाया है. जिन मामलों की फाइलें गायब थीं, इस बारे में सवाल उठाया है. इसके अलावा एलडीए के अधिकारियों ने किस तरह से छोटे प्लॉट के बदले अपने करीबियों को बड़े प्लॉट दे दिए, इस बारे में भी सवाल उठाए गए हैं.

वित्तीय अनियमितता की शिकायत

उपमुख्यमंत्री ने लखनऊ डेवलपमेंट अथॉरिटी के अधिकारियों की मिलीभगत से वित्तीय अनियमितता की शिकायत की है. जिन बिल्डरों ने प्रदेश की राजधानी लखनऊ में प्लॉट लेकर कमर्शियल प्रोजेक्ट में लोगों के साथ धोखा किया उन्हें फिर से विभाग की तरफ से प्लॉट दिए जाने और उन पर कृपा बनाए रखने पर भी सवाल उठाए हैं. इस चिट्ठी के आधार पर विभाग और मुख्यमंत्री कार्यालय जांच शुरू कर चुका है, लेकिन अभी भी जांच की डिटेल्स बाहर नहीं आई है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें