scorecardresearch
 

osbमां के साथ स्ट्रेचर खींच रहा 4 साल का मासूम, वीडियो हुआ वायरल

4 साल के बच्चे के साथ स्ट्रैचर खींचने को मजबूर हुई बिंदु का आरोप है कि रोजाना वार्ड से ड्रेसिंग कराने के लिए उन्हें अपने पिता को ड्रेसिंग रूम ले जाना पड़ता है और उन्हें ले जाने के लिए कोई कर्मी नहीं तैयार होता है. पहले वह आधार कार्ड जमा करती हैं जिसके बाद वह स्ट्रेचर लेकर अपने पिता की ड्रेसिंग करवाने जाती हैं.

X
सांकेतिक तस्वीर (पीटीआई) सांकेतिक तस्वीर (पीटीआई)

  • हाथ और पैर में फ्रैक्चर के बाद 3 जुलाई से ही अस्तपाल में भर्ती
  • ड्रेसिंग के लिए सर्जिकल वार्ड से रोजाना ड्रेसिंग रूम ले जाते हैं
  • मामले पर अधिकारियों से संपर्क की कोशिश, फोन नहीं उठाया
कोरोना संकट के बीच उत्तर प्रदेश के देवरिया जिले के अस्पताल का एक वीडियो वायरल हुआ है जिसमें एक मासूम बच्चा अपनी मां के साथ स्ट्रेचर को खींचता हुआ दिखाई दे रहा है. मां का कहना है कि स्ट्रेचर खींचने के लिए स्टाफ पैसा मांगता है इसलिए हम लोग खुद ही खींच कर ले जाते हैं. यह वायरल वीडियो 18 जुलाई का है.

सोशल मीडिया में वायरल वीडियो के बारे में जब पड़ताल की गई तो यह वीडियो सच साबित हुआ. इसमें एक बुजुर्ग जिसके हाथ और पैर में फ्रेक्चर है और वह जिला अस्पताल के मेल सर्जिकल वार्ड में 3 जुलाई से भर्ती है. इन्हें ड्रेसिंग के लिए ले जाने के दौरान का यह वीडियो है, जिसमें मासूम अपने नाना को स्ट्रेचर पर लिटाकर धक्का देकर ले जाता दिख रहा है, उसकी मां भी स्टेचर खींच रही है.

1_072020061107.jpg

इस पूरे मामले पर अधिकारियों से संपर्क करने की कोशिश की गई लेकिन किसी का फोन नहीं उठा.

रंजिश में हाथ-पैर तोड़ डाले

आजतक जब स्ट्रेचर खींच रही महिला के पास पहुंच तो उसने बताया कि उसका नाम बिंदु यादव है और उसका बेटा शिवम चार साल का है. बिंदु के बुजुर्ग पिता छेदी यादव जो बरहज थाना के गौरा गांव के रहने वाले हैं. उनकी उम्र 60 साल है. वह 3 जुलाई को गाय चराने गए थे तो कुछ लोगों ने रंजिश में मारपीट कर उनके हाथ पैर तोड़ दिए. वह 3 जुलाई से ही यहां पर भर्ती हैं.

2_072020061218.jpgमां के साथ स्ट्रैचर खींचता 4 साल का मासूम

बिंदु का आरोप है कि रोजाना वार्ड से ड्रेसिंग कराने के लिए उन्हें अपने पिता को ड्रेसिंग रूम ले जाना पड़ता है और उन्हें ले जाने के लिए कोई कर्मी नहीं तैयार होता है. पहले वह आधार कार्ड जमा करती हैं जिसके बाद वह स्ट्रेचर लेकर अपने पिता की ड्रेसिंग करवाने जाती हैं.

इसे भी पढ़ें --- यूपी: लखनऊ में बढ़ रहा कोरोना संक्रमण, चार इलाकों में लॉकडाउन, हाईकोर्ट बंद

ड्रेसिंग के बाद वह स्ट्रेचर जमा कर देती हैं. उनका आरोप है कि स्ट्रेचर खींचने के लिए स्टाफ 30 रुपये मांगता है. हम गरीब हैं, हमारे पास पैसा नहीं है. लिहाजा हम स्ट्रेचर खींचते हैं और मेरा बेटा भी स्ट्रेचर को धक्का देता है.

इसे भी पढ़ें --- पूछताछ के लिए राजस्थान SOG टीम को रिजॉर्ट में नहीं मिली एंट्री, वापस लौटी

बिंदु कहती हैं कि स्ट्रेचर खींचने वाली दाई आती है तो वह पैसा मांगती है लेकिन हम पैसा नहीं दे पाएंगे इसलिए खुद मैं और मेरा बच्चा स्ट्रेचर खींचकर ले जाते हैं. हमारी कोई सुनने वला नहीं है. हम गरीब हैं, किससे शिकायत करें. इस पूरे मामले पर जानने के लिए आजतक ने अधिकारियों से संपर्क करने की कोशिश की तो फोन नहीं उठा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें