scorecardresearch
 

'गलती की हो तो घर जाकर माफी मांग लें...' CM योगी के बयान पर अखिलेश ने ऐसे ली चुटकी

आज विधानसभा में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ऐसी बात कही कि पूरा सदन हंसी के ठहाकों से गूंज उठा. इस पर पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने चुटकी ली तो सीएम योगी ने फिर तंज कस दिया. दोनों के बीच तंज कसने का सिलसिला कुछ देर तक चला और पूरा सदन हंसी के ठहाके लगाता रहा.

X
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और अखिलेश यादव (फाइल फोटो)
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और अखिलेश यादव (फाइल फोटो)

उत्तर प्रदेश विधानसभा में आज महिलाओं को लेकर खास सत्र का आयोजन किया गया है. इस दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ऐसी बात कही कि पूरा सदन हंसी के ठहाकों से गूंज उठा. इस पर पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने चुटकी ली तो सीएम योगी ने फिर तंज कस दिया. दोनों के बीच तंज कसने का सिलसिला कुछ देर तक चला और पूरा सदन हंसी के ठहाके लगाता रहा.

दरअसल, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सदन में कहा, 'मैं आपका (स्पीकर सतीश महाना) का आभारी हूं कि आपने प्रदेश की चुनी गईं महिला सदस्यों के लिए दिया है, आज वह अपने क्षेत्र से जुड़ीं हुई समस्याओं पर चर्चा करेंगी, बहुत-सी चीजें हैं जो वह आज सदन के सामने रखेंगी और उस पर चर्चा की जाएगी, मैं सभी पुरुष सदस्यों से कहूंगा कि सामान्य दिनों में आपके शोरगुल के नीचे महिलाओं की आवाज दब जाती थी, आज कम से कम उनकी बातों को सुनने के लिए बैठेंगे.'

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आगे कहा, 'आपके लायक होगा तो उसे स्वीकार करेंगे और अगर आपसे कभी गलती हुई होगी तो घर में जाकर करके दोनों कान पकड़ कर वहां माफी मांग करके आगे से सुधार लाएंगे, ताकि सदन की कार्यवाही आगे चलाने में आप मदद कर सके.' जैसे ही सीएम योगी ने यह बातें बोली तो पूरा सदन हंसी के ठहाकों से गूंज उठा. इस पर पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने चुटकी लेते हुए कहा, 'नेता सदन को यह बातें कैसे पता है, उनके बगलवाले भी बता नहीं सकते.'

जैसे ही अखिलेश यादव ने यह बोला तो एक बार फिर पूरा सदन हंसी के ठहाकों से गूंज उठा. अखिलेश के बयान पर तंज कसते हुए सीएम योगी ने कहा, 'लग रहा है कि सुरेश खन्नाजी ने आपको निमंत्रण नहीं दिया, अभी उन्होंने रिसेप्शन भी रखा था, आपको निमंत्रण देना भूल गए होंगे.' जैसे ही सीएम योगी ने कहा तो अखिलेश यादव फिर खड़े हो गए और कहा, 'जितिन वहीं से आते हैं, कभी उन्होंने बताया नहीं.'

अखिलेश ने कानून व्यवस्था को लेकर उठाए सवाल

पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने महिला सत्र से पहले कानून व्यवस्था को लेकर सवाल उठाए. अखिलेश यादव ने कहा, 'पिछले सालों में महिला खिलाफ अपराध बढ़ा है, लखीमपुर-हाथरस इसका सीधा उदाहरण है, सरकार प्रयास करें तो यह अपराधों को रोका जा सकता है और नियंत्रण किया जा सकता है, कानून व्यवस्था के मामले को लेकर केवल चर्चा ना रह जाए बल्कि ठोस कदम भी उठाए जाए, सरकार ने बड़ी-बड़ी बातें कहीं लेकिन धरातल पर ऐसा कुछ नहीं है.'

अखिलेश यादव ने कहा, 'पुलिस बल में महिलाओं के लिए विशेष भर्ती अभियान चलाया जाना चाहिए, डॉयल 112 का रिस्पांस टाइम कम हो, सपा सरकार में चलाई गई वुमन पॉवर हेल्पलाइन 1090 को मंजूर किया जाए और ऐप से जोड़ते हुए इसे बढ़ाया जाए, महिलाओं की सुरक्षा और उनको मौका देने के लिए सरकार के प्रयास जरूरी, उम्मीद है कि आज के सत्र के बाद कई मुद्दों पर बेहतर सुझाव आएंगे.'

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें