scorecardresearch
 

गाजीपुर: छठ पर स्नान के दौरान गंगा की गहराई नापने लगा भतीजा, बचाने गए चाचा भी डूबे

यूपी के गाजीपुर में छठ के मौके पर गंगा में नहाने गए चाचा-भतीजे की गंगा में डूबने से मौत हो गई. बताया जा रहा है स्नान करने के बाद भतीजे ने गंगा की गहराई नापने के लिए फिर से छलांग लगा दी. उसे डूबते हुए देखकर चाचा भी कूद गए, लेकिन वो भी डूब गए. दोनों के शव गोताखोरों ने बाहर निकाले.

X
सांकेतिक तस्वीर
सांकेतिक तस्वीर

लोक आस्था के महापर्व छठ के मौके पर यूपी के गाजीपुर में खुशियों की जगह मातम छा गया. घटना गाजीपुर के करंडा थाना इलाके के गोसंदेपुर गंगा घाट की है. यहां छठ के मौके पर चाचा-भतीजा की स्नान करते वक्त गंगा नदी में डूबने से मौत हो गई.

घटना के बाद पूरे इलाके में सन्नाटा पसरा गया है. रिपोर्ट के मुताबिक, छठ पर्व के दौरान एक ही परिवार के तीन लोग हिमांशु गिरी, ओम गिरी और सुजीत गिरी गंगा घाट पर वेदी बनाने के लिए पहुंचे थे. वेदी बनाने के बाद गंगा स्नान करने के बाद वापस घर निकल रहे थे.

इसी दौरन 14 साल के ओम गिरी ने दोबारा गंगा की गहराई नापने के लिए छलांग लगा दी. गंगा की गहराई नापने के चक्कर में ओम डूबने लगा. उसे बचाने के लिए उसके चाचा सुजीत गिरी भी गंगा में कूद गए. भतीजे को बचाने के चक्कर में सुजीत गिरी भी डूबने लगे.

महिलाओं ने साड़ी फेंककर की बचाने की नाकाम कोशिश 

दोनों को गंगा में डूबते देख हिमांशु गिरी भी गंगा में उतारा, लेकिन गंगा की गहराई भांपकर बाहर निकल गया. इसके बाद उसने शोर मचाना शुरू कर दिया. उसकी आवाज सुनकर आस-पास में छठ के लिए वेदी बना रही महिलाएं पहुंच गईं. उन्होंने अपनी साड़ी फेंककर डूब रहे चाचा-भतीजे को बचाने का प्रयास किया, लेकिन बचा नहीं सकीं. 

वहीं, घटना की जानकारी होते ही ग्रामीण और करंडा थाने की पुलिस भी मौके पर पहुंच गई. स्थानीय लोगों और गोताखोरों की मदद से गंगा में डूबे चाचा-भतीजे की तलाश की गई.

करीब एक घंटे बाद सुजीत को गंगा से बाहर निकाल कर एंबुलेंस के माध्यम से जिला अस्पताल लाया गया. डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया. वहीं करीब 3 घंटे की तलाशी के बाद ओम गिरी की डेड बॉडी भी मिल गई. पुलिस मामले की जांच में जुटी है. 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें