scorecardresearch
 

प्रयागराज: 8 साल से बिना लाइट के जिंदगी गुजारने को मजबूर है परिवार, जानिए क्या है मामला!

प्रयागराज के प्रीतम नगर रहने वाले रविंद्र जौहरी का पूरा परिवार 8 सालों से अंधेरे में जिंदगी गुजारने को मजबूर है. रविंद्र जौहरी की पत्नी नीलम अग्रहरि सुबह ही खाना बना लेती हैं. इसको दोनों टाइम खाती हैं. हालांकि, इन सब परेशानियों के बीच पीड़ित परिवार ने अपने घर में सोलर लाइट लगा लिया है.

X
पीड़ित परिवार
पीड़ित परिवार

सरकार गांव-गांव, घर-घर बिजली पहुंचाने का दावा कर रही है. मगर, इसके उलट बीपीसीएल (BPCL) में एग्जीक्यूटिव ऑफिसर पद से 2008 में रिटायर रविंद्र जौहरी का परिवार 8 साल से अंधेरे में जिंदगी गुजार रहा है. प्रयागराज के इस परिवार की परेशानी सरकारी सिस्टम पर कई सवाल खड़े करती है.

प्रयागराज के पॉश इलाके में शुमार प्रीतम नगर में ये परिवार झुलसाने वाली गर्मी से लेकर कड़ाके की ठंड तक में अंधेरे में ही जिंदगी गुजार रहा था. अब इस परेशानी से निजात पाने के लिए परिवार ने घर में सोलर लाइट लगा ली है.

मामले में बड़े-बड़े अफसरों की चौखट से लेकर मुख्यमंत्री के दरबार तक न्याय की गुहार लगाई. मगर, नतीजा सिफर रहा. पीड़ित परिवार का आरोप है कि दोषी अधिकारी पर कार्रवाई के बजाय उन्हें प्रमोशन दे दिया गया. 

यह है पूरा मामला
रविंद्र कुमार जौहरी प्रीतम नगर कॉलोनी के एलआईजी फ्लैट में रहते है. वो बीपीसीएल (BPCL) में एग्जीक्यूटिव ऑफिसर पद से साल 2008 में रिटायर हुए थे. इनकी बेटी आगरा के ICMR प्रोजेक्ट में काम करती थी.

साल 2012 में उसे केमिकल रिएक्शन हो गया. इसके बाद पूरा परिवार आगरा में बेटी के साथ रहने चला गया. साल 2014 में बेटी की मौत हो गई. इसके बाद 2015 में परिवार आगरा से प्रयागराज वापस अपने घर लौट आया.

इसके बाद बिजली विभाग ने बिजली का लंबा-चौड़ा बिल भेज दिया. पीड़ित परिवार का आरोप है कि उस समय के तत्कालीन एसडीओ उमाकांत ने कार्यालय के बार-बार चक्कर लगवाए. तब-तक बिल बढ़कर कर बीस हजार रुपये हो गया और बिना बताए उनका बिजली का कनेक्शन काट दिया गया. 

CGRS का दरवाजा खटखटाया, लेकिन बिजली नहीं मिली 
पीड़ित परिवार को जब कहीं से न्याय नहीं मिला, तो विद्युत व्यथा निवारण फोरम (सीजीआरएस) का दरवाजा खटखटाया. वहां से आदेश हुआ कि चार हजार रुपये जमा करा कर कनेक्शन शुरू कर दिया जाए.

परिवार ने पैसे भी जमा कर दिए, लेकिन बिजली विभाग ने आदेश को दरकिनार करते हुए आज तक कनेक्शन नहीं दिया. रविंद्र जौहरी की मांग है कि दोषी अधिकारी के खिलाफ विभाग कार्रवाई करे. 

मंत्री ने दिए जांच के आदेश
मामले में ऊर्जा विभाग के मंत्री डॉ. सोमेंद्र तोमर ने कहा, "प्रयागराज चीफ को निर्देशित किया है. मामला पुराना है और इसकी जानकारी अधिकारियों के संज्ञान में नहीं थी. मैंने अधिकारियों को जांच करके कार्रवाई करने का निर्देश दिया है." 

ऊर्जा मंत्री ने ये भी कहा कि सरकार और महाराज जी की मंशा है कि सभी उपभोक्ता को सही सुविधा प्रदान कर सकें. परिवार को न्याय जरूर मिलेगा. 

इस मामले में चीफ इंजीनियर विनोद कुमार गंगवार ने बताया, "इस पूरे प्रकरण की हम लोग जांच कर रहे हैं. जांच में जो तथ्य सामने आएंगे और इस संबंध में जो भी दोषी होगा, उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी."

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें