scorecardresearch
 

UP: 'सुबह से भूखा हूं, मूंगफली खत्म होगी तब देखूंगा...' डॉक्टर की बात सुनते ही भड़के लोग

बाराबंकी के पोस्टमार्टम हाउस से मृतकों के परिजनों और डॉक्टर के बीच जमकर कहासुनी हुई. पोस्टमॉर्टम हाउस में सुबह से शाम तक चार शव पड़े रहे लेकिन यहां तैनात किए गए डॉक्टर ने पोस्टमॉर्टम नहीं किया. मृतकों के परिजनों ने आक्रोश जताया तो डॉक्टर ने कहा कि सुबह से कुछ खाया नहीं है, मूंगफली खत्म होगी तब रात को देखा जाएगा.

X
पोस्टमार्टम हाउस पर डॉक्टर और मृतक के परिजनों में हुई नोकझोंक
पोस्टमार्टम हाउस पर डॉक्टर और मृतक के परिजनों में हुई नोकझोंक

UP News: बाराबंकी के पोस्टमार्टम हाउस में तैनात डॉक्टर की एक बड़ी लापरवाही सामने आई है. जहां दिनभर चार शव पड़े रहे लेकिन डॉक्टर धर्मेंद्र गुप्ता ने देर शाम तक एक भी पोस्टमॉर्टम नहीं किया. इस पर मृतकों के परिजनों का गुस्सा फूट पड़ा और उन्होंने डॉक्टर से सवाल शुरू कर दिए. इस पर डॉक्टर ने उनके साथ अभद्रता की.  

डॉक्टर ने कहा कि सुबह से कुछ खाया नहीं है, मूंगफली खत्म होगी तब रात को पोस्टमॉर्टम करेंगे. इस पर परिजनों और डॉक्टर के बीच कहासुनी इतनी बढ़ी कि नौबत हाथापाई तक पहुंच गई. 

जानकारी के मुताबिक पोस्टमॉर्टम हाउस में सुबह से शाम तक चार शव पड़े रहे लेकिन यहां तैनात किए गए डॉक्टर ने पोस्टमॉर्टम करना शुरू नहीं किया. मृतकों के परिजनों ने आक्रोश जताया तो डॉक्टर ने बदतमीजी शुरू कर दी. वहां मौजूद एक शख्स ने जब मंत्री सतीश शर्मा को फोन मिलाकर डॉक्टर से बात करानी चाही तो उन्होंने कहा मैं उनको नहीं जानता. इस पर मामला और भी ज्यादा बिगड़ गया और नौबत मारपीट तक पहुंच गई. सूचना पाकर देर शाम सीएमओ भी मौके पर पहुंचे. दूसरे डॉक्टरों को पीएम के लिए तैनात किया गया.

इस मामले को बढ़ता देख सीएमओ डॉक्टर अवधेश कुमार यादव ने सीएचसी बड़ागांव अधीक्षक डॉ. संजीव कुमार और जिला अस्पताल के डॉ. वीरेंद्र कुमार सिंह को बुलाकर पीएम शुरू कराया. देर रात परिजनों को पोस्टमॉर्टम के बाद बॉडी हैंडओवर की गई.  साथ ही सीएमओ ने कहा कि जिलाधिकारी को मामले की सूचना दी गई है. आरोपी डॉक्टर के खिलाफ कार्रवाई के लिए शासन को पत्र लिखा जाएगा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें