scorecardresearch
 

सास की बेडशीट नहीं बदली तो खुद अस्पताल पहुंचे जज, लापरवाही के लिए 3 कर्मचारी सस्पेंड

स्वरूपरानी नेहरू अस्पताल में कार्य में लापरवाही बरतने पर तीन कर्मचारियों को सस्पेंड कर दिया है. दरअसल, यहां इलाहाबाद हाईकोर्ट के जज की सास भर्ती थीं. जज की पत्नी ने स्टाफ से आग्रह किया कि उनकी मां की गंदी बेडशीट बदल दें. स्टाफ ने उन्हें सीधे कह दिया कि उनके पास बेडशीट नहीं है. इसलिए वे घर से ही बेडशीट ले आएं.

X
अस्पताल के प्रिंसिपल ने जज से मांगी माफी.
अस्पताल के प्रिंसिपल ने जज से मांगी माफी.

प्रयागराज में इलाहाबाद हाईकोर्ट के जज की सास की गंदी बेड कवर बदलने के आग्रह को ठुकराना स्वरूप रानी नेहरू अस्पताल के तीन कर्मियों के लिए भारी पड़ गया. अस्पताल के प्रिंसिपल ने कार्य में लापरवाही बरतने पर दो नर्स और एक वार्ड ब्वाय को सस्पेंड कर दिया गया है. इस तरह की घटना के लिए अस्पताल के प्रिंसिपल ने खेद भी जताया है.

दरअसल, हृदय रोग से पीड़ित जज की सास का एसआरएन में उपचार कराया जा रहा था. मरीज को जिस वार्ड के बेड पर भर्ती कराया गया था, वहां तैनात नर्स और वार्ड ब्वाय के कार्य में शिथिलता पाई गई. दरअसल, उनकी बेडशीट गंदी थी. जज की पत्नी ने अस्पताल के कर्मचारियों से बेडशीट बदलने की गुजारिश की. लेकिन अस्पताल स्टाफ ने उनकी बात को अनसुना कर दिया.

जज की पत्नी ने अस्पताल कर्मचारियों से फिर से आग्रह किया कि वे बेडशीट बदल दें. इस पर अस्पताल स्टाफ ने जवाब दिया कि उनके पास बेड कवर नहीं है. वे चाहें तो अपने घर से बेडशीट ले आएं. इसकी जानकारी परिजनों

ने जज को दी तो मामला बढ़ गया. जज खुद अस्पताल पहुंच गए और उन्होंने नाराजगी जताई.

 

मोतीलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज के स्वरूप रानी नेहरू अस्पताल के प्रिंसिपल को जब इसकी जानकारी मिली तो वह खुद मौके पर पहुंचे. वहां उन्होंने बेड कवर बदलवाने के साथ ही अन्य व्यवस्थाएं दुरुस्त कराईं.

जज ने प्रिंसिपल को भी इसके लिए डांटा. उन्होंने पूछा कि क्या मरीज से अस्पताल के लिए चादर मंगवाई जाती है? इस पर प्रिंसिपल ने उनसे हाथ जोड़कर माफी मांगी और कहा कि आगे से ऐसी गलती नहीं होगी. साथ ही उन्होंने इसके लिए जिम्मेदार तीन स्टाफ कर्मियों को सस्पेंड कर दिया.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें