scorecardresearch
 

शिवपाल के निशाने पर अखिलेश, कहा- कई बार खाया धोखा, अब आगे कोई समझौता नहीं

प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव और अखिलेश यादव के बीच विधानसभा चुनाव के दौरान कम होती नजर आईं दूरियां अब गहरी खाई में तब्दील होती दिख रही हैं. शिवपाल यादव ने सपा के खिलाफ मोर्चा खोल रखा है. सपा से समझौते और भविष्य की अपनी राजनीति को लेकर शिवपाल ने बड़ा बयान दिया है.

X
शिवपाल सिंह यादव (फाइल फोटो)
शिवपाल सिंह यादव (फाइल फोटो)

समाजवादी पार्टी (सपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव और उनके चाचा प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) के अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव के बीच दूरियां विधानसभा चुनाव से पहले कम होती नजर आई थीं. दोनों नेताओं के बीच दूरियां फिर से बढ़ गई हैं. शिवपाल यादव भतीजे अखिलेश पर वार करने का कोई मौका नहीं चूक रहे.

शिवपाल सिंह यादव ने अखिलेश यादव और सपा को लेकर बड़ा बयान दिया है. उन्होंने कहा है कि समाजवादी पार्टी से कई बार धोखा खा चुके हैं. शिवपाल सिंह यादव ने साफ शब्दों में ये भी कह दिया कि अब भविष्य में सपा से कोई समझौता नहीं करेंगे. प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष ने भविष्य की राजनीति को लेकर संकेत भी दिए.

उन्होंने दावा किया कि हम 2024 में सत्ता में रहेंगे. शिवपाल ने ये कहा कि गठबंधन को लेकर फैसला चुनाव नजदीक आने पर लिया जाएगा. क्या प्रगतिशील समाजवादी पार्टी सत्ताधारी भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के साथ गठबंधन करेगी? शिवपाल सिंह यादव ये सवाल टाल गए. उन्होंने इस संभावना से इनकार भी नहीं किया.

गौरतलब है कि शिवपाल सिंह यादव, अखिलेश यादव के नेतृत्व वाली समाजवादी पार्टी की सरकार में कैबिनेट मंत्री थे. शिवपाल यादव और अखिलेश के बीच 2017 के विधानसभा चुनाव से ठीक पहले दूरी बढ़ी. शिवपाल सिंह यादव तब सपा के प्रदेश अध्यक्ष भी थे. शिवपाल ने अखिलेश को पार्टी से निकाल दिया था. इसके बाद तेजी से घटे सियासी घटनाक्रम में शिवपाल ही पार्टी से किनारे हो गए.

शिवपाल सिंह यादव ने प्रगतिशील समाजवादी पार्टी नाम से अपना राजनीतिक दल बना लिया. शिवपाल और अखिलेश 2022 के विधानसभा चुनाव से पहले फिर साथ आ गए. खुद शिवपाल भी सपा के टिकट पर जसवंतनगर सीट से विधानसभा सदस्य निर्वाचित हुए. हालांकि, सपा की सरकार नहीं बनने का दर्द भी वे समय-समय पर जाहिर करते रहे.

शिवपाल ने कहा था कि उन्होंने अखिलेश से सौ सीटें मांगी थीं लेकिन मिली केवल एक और हम सरकार बनाने से चूक गए. शिवपाल यादव इसके बाद भी अखिलेश यादव और सपा को लेकर आक्रामक बयान देते रहे. बाद में सपा की ओर से पत्र जारी कर ये कह दिया गया था कि शिवपाल जहां चाहें, जा सकते हैं.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें