scorecardresearch
 

आजम खान, नाहिद हसन के लिए न्याय की लड़ाई क्यों नहीं? रामगोपाल की योगी से मुलाकात पर बोले शिवपाल

सपा के राष्ट्रीय महासचिव रामगोपाल यादव सोमवार को सीएम योगी से मिले थे. इसपर उनके भाई शिवपाल यादव ने तंज कसा है. वह बोले कि आजम खान, नाहिद हसन आदि के लिए सपा ने न्याय की लड़ाई क्यों नहीं लड़ी. खबर है कि रामगोपाल ने अपने करीबियों पर दर्ज मुकदमों के संदर्भ में सीएम योगी से बात की थी.

X
शिवपाल यादव ने भाई रामगोपाल यादव को घेरा
शिवपाल यादव ने भाई रामगोपाल यादव को घेरा

सीएम योगी आदित्यनाथ से सपा नेता रामगोपाल यादव (Ram Gopal Yadav) की मुलाकात पर उनके भाई शिवपाल यादव (Shivpal Singh Yadav) ने निशाना साधा है. अखिलेश यादव के चाचा शिवपाल यादव ने कहा कि रामगोपाल यादव ने सीएम योगी से मिलने पर आजम खान, नाहिद हसन आदि कार्यकर्ताओं के मामले क्यों नहीं उठाए.

शिवपाल यादव ने लिखा, 'न्याय की यह लड़ाई अधूरी क्यों हैं? आजम खान साहब, नाहिद हसन, शहजिल इस्लाम.....और अन्य कार्यकर्ताओं के लिए क्यों नहीं?'

रामगोपाल यादव सोमवार को सीएम योगी आदित्यनाथ से मिलने उनके आवास पर गए थे. बाद में सामने आया था कि रामगोपाल ने पूर्व विधायक रामेश्वर सिंह यादव एवं उनके भाई जोगेंद्र सिंह यादव का मामला सीएम योगी के सामने उठाया था. कहा गया था कि सपा के इन कार्यकर्ताओं और उनके परिवार को बिना बात प्रताड़ित किया जा रहा है. सीएम से आग्रह किया गया था कि ऐसा ना किया जाए.

पूर्व विधायक रामेश्वर यादव और उनके परिवार पर दर्जनों मुकदमे दर्ज हैं. वहीं जोगेंद्र सिंह जो कि रामेश्वर यादव के भाई हैं उनकी पत्नी और खुद उन पर भी कई दर्जन मुकदमे पहले से दर्ज हैं. योगी सरकार में गैंगस्टर एक्ट के तहत भी इस परिवार पर कार्रवाई हुई है. इस परिवार ने पुलिस कार्यवाही से बचाने की गुहार रामगोपाल यादव से लगाई थी. रामेश्वर यादव रामगोपाल के करीबी माने जाते हैं. हाल में रामेश्वर की जमीन पर सरकार का बुलडोजर भी चला था.

सपा ने कही थी अलग बात

रामगोपाल की मुलाकात पर समाजवादी पार्टी ने ट्वीट भी किया था. इसमें मुसलमानों के लिए आवाज उठाने की बात कही गई थी और रामेश्वर यादव का जिक्र नहीं था. ट्वीट में लिखा गया था, 'आज समाजवादी पार्टी के प्रमुख राष्ट्रीय महासचिव प्रोफेसर रामगोपाल यादव ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से लखनऊ में मुलाक़ात की. प्रदेशभर में पिछड़ों और मुसलमानों पर एकतरफा फर्जी मुकदमें दर्ज कर उनके उत्पीड़न के संदर्भ में बात हुई.' आगे लिखा था कि सरकार फर्जी मुकदमे वापस ले.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें